BSF

BSF ने शौर्य, पराक्रम और वीरता के लिए किया 22 कर्मियों को सम्मानित

नई दिल्ली। जान पर खेल कर देश की रक्षा करने वाले सीमा सुरक्षा बल (BSF) जांबाज कर्मियों को आज शौर्य पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। इस अवसर पर सीमा सुरक्षा बल के 22 कर्मी सम्मानित किए गए। सम्मानित कर्मियों में से 11 को वीरोचित ‘वीरता के लिए पुलिस पदक’ तथा 12 सेवारत तथा सेवानिवृत सदस्यों को ‘सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक’ से सम्मानित किया गया है। एक सदस्य को उत्तम जीवन रक्षा पदक से सम्मानित किया गया।





BSFBSF

नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित सीमा सुरक्षा बल के 17वें अलंकरण समारोह में यह पदक प्रदान किए गए। खचाखच भरे हॉल और बल के सदस्यों की गरिमामय उपस्थिति में मुख्य अतिथि अजित डोभाल ने सशस्त्र बल के अदम्य साहस तथा पराक्रम की उत्कृष्ट व्याख्या की। उन्होंने बीएसएफ के प्रथम महानिदेशक व प्रणेता केएफ रुस्तम जी के साथ किए गए अपने कार्य अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि गठन के समय से ही यह बल अपने अदम्य साहस व बलिदानों से देश की सुरक्षा में अहम भूमिका निभा रहा है।
इस अवसर पर सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक रजनीकांत मिश्र ने अपने स्वागत भाषण में बल के बारे में जानकारी दी। स्वागत संबोधन में उन्होंने बल परिवार सहित केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल तथा अन्य विभागों से आए वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार का आभार प्रकट किया।
समारोह के दौरान रुस्तम जी स्मृति व्याख्यान का भी आयोजन किया गया। व्याख्यान में इंस्टीट्यूट फॉर कॉन्फ्लिक्ट मैनेजमेंट संस्था के संस्थापक डॉ अजय साहनी ने ‘The Shifting Borders of conflict’ विषय पर अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े अनुभवों को साझा किया और बल के सदस्यों के प्रश्नों के उत्तर दिए।

Comments

Most Popular

To Top