Others

अमेरिका ने हबीब बैंक (HBL) को किया बंद

पाकिस्तान का हबीब बैंक

नई दिल्ली। अमेरिकी बैंकिंग नियामकों ने पाकिस्तान के हबीब बैंक के न्यूयॉर्क दफ्तर को बंद करने का आदेश दिया है। यह बैंक पाकिस्तान का सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक है। करीब 40 सालों से अमेरिका में काम कर रहा है। गुरुवार को ऑफिसरों ने कहा कि बैंक को संभावित आतंकवादी वितपोषण और मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ी गतिविधियों की वजह से बंद किया गया है।





मो. अली जिन्ना ने खुलवाया था हबीब बैंक

हबीब बैंक, पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद जिन्ना की पहल का नतीजा है। भारत के मुसलमानों के लिए अलग देश की मांग के आंदोलन के दौरान उन्होंने मुसलमानों की वित्तीय जरूरतों के लिए अलग बैंक की स्थापना की जरूरत महसूस की। इसके लिए जिन्ना ने मशहूर हबीब इस्माइल के परिवार को तैयार किया।

हबीब इस्माइल के बेटों ने साल 1941 में मुंबई में हबीब बैंक की स्थापना महज 25,000 रुपये शुरूआती पूंजी से की। पाकिस्तान की गठन के लिए मुस्लिम लीग के आंदोलन की फंडिंग में इस बैंक ने जमकर मदद की थी।

साल 1947 में पाकिस्तान के विभाजन के बाद जिन्ना के कहने पर हबीब बैंक अपना हेड क्वॉर्टर कराची शिफ्ट कर दिया। इस तरह यह कराची (पाकिस्तान) का पहला कॉमर्शियल बैंक बन गया।

खबरों के मुताबिक बैंक अधिकारियों ने बताया कि बैंक ने अनुपालन संबंधी समस्याओं और उसके ट्रांजेक्शन की प्रकिया पर जारी संदेहों को नजरअंदाज किया है। सरकार को बैंक के मनी लॉन्ड्रिंग और दूसरे तरह के आतंकवाद को बढ़ावा देने जैसी फंडिंग की कार्यवाही पर शक है।

राज्य की डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विस ने बैंक पर 225 मिलियन डॉलर (22 करोड़ 50 लाख रुपये) का जुर्माना लगाया है। DFS राज्य में विदेशी बैंकों को संचालन की अनुमति देता है।

हबीब बैंक अमेरिका में 1978 से संचालन कर रहा है और 2006 में इसे आदेश दिया गया था कि वह संभवत: अवैध ट्रांजेक्शन का निरीक्षण करे पर बैंक अनुपान में विफल रहा था। न्यूयॉर्क रेग्यूलेटर के अनुसार हबीब बैंक ने सऊदी निजी बैंक अल रजी बैंक के साथ अरबों डॉलर का लेनदेन किया, जो कथित रूप से अल कायदा से जुड़ा हुआ है और यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त प्रयास नहीं किए गए कि कहीं पैसों का इस्तेमाल टेरर गतिविधियों के लिए तो इस्तेमाल नहीं किया गया है।

Comments

Most Popular

To Top