Others

राष्ट्रगान से होगी हरियाणा के इस गांव की सुबह, मिल चुका है स्वच्छता अवार्ड

फरीदाबाद। हरियाणा के फरीदाबाद जिले के जाट बहुल भनकपुर गांव में अब रोज़ सुबह 9 बजे तथा शाम 5:55 पर राष्ट्रगान गाया जाएगा। इस योजना के लिए गांव  में करीब 3 लाख रुपये खर्च कर 22 बिजली के खंबों पर 20 लाउडस्पीकर लगवाए गए हैं। साथ ही गांव में अब सीसीटीवी कैमरे भी लगवा दिए गए हैं।ऐसा करने वाला भनकपुर हरियाणा का पहला गांव होगा। गुरुवार को गांव के सरपंच सचिन मदोतिया ने इस बात का ऐलान किया।





बल्लभगढ़ ग्राम पंचायत की ओर से इस दिशा में कार्य पूरा किया जा चुका है। बल्लभगढ़ से महज 10 किमी दूरी पर स्थित करीब 5 हजार की आबादी वाले भनकपुर गांव की पंचायत ने गांव में सुबह और शाम दोनों समय राष्ट्रगान गाने का निर्णय लिया है। इसके लिए पूरे गांव में साउंड सिस्टम लगा दिया गया है, ताकि राष्ट्रगान पूरे गांव में सुनाई दे। गुरुवार को यहां पूरे गांवने एक साथ राष्ट्रगान गाकर इस योजना की शुरुआत की।

बढ़ेगी देशभक्ति की भावना

गांव के सरपंच सचिन मंडोतिया के अनुसार  इस योजना को शुरू करने का निर्णय इसलिए लिया गया कि इससे युवा वर्ग में देशभक्ति की भावना बढ़ेगी। सुबह-शाम ग्रामीणों को सीडी चलाकर राष्ट्रगान सुनाया जाएगा। बीडीपीओ पूजा शर्मा का कहना है कि पंचायत ने गांव में लाउडस्पीकर लगाने के लिए अनुमति मांगी थी, जो दे दी गई है। लाउडस्पीकर लगाने के बाद सूचनाएं आदि प्रसारित कराने में भी आसानी रहेगी। भनकपुर गांव इससे पहले भी चर्चा का विषय बना रहा है। इस गांव में कुल 22 सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं, इसके अलावा गांव को स्वच्छता के अवॉर्ड से नवाज़ा जा चुका है।

 

तेलंगाना के इस गांव में भी हर रोज गाया जाता है राष्ट्रगान

तेलंगाना राज्य का एक ज़िला है करीमनगर। यहां के जम्मिकुंटा गांव के नागरिक  हर रोज़ सुबह ठीक 8 बजे सावधान मुद्रा में खड़े होकर राष्ट्रगान गाते हैं। भारत का यह  छोटा सा गांव आज पूरे देश को प्रेरणा दे रहा है। 15 अगस्त वर्ष 2017 को यहां इस तरह नियमित रूप से राष्ट्रगान गाने की शुरुआत हुई थी। देश के तेलंगाना राज्य के इस  गांव के बाद अब हरियाणा के भनकपुर गांव में यह फैसला लिया गया है। ग्रामीणों ने कहा कि यह अच्छा काम है और इससे नई पीढ़ी में देश प्रेम की भावना पैदा होगी।

रक्षक न्यूज का व्यू: उत्तर भारत के इस  पहले गांव में प्रतिदिन सुबह-शाम राष्ट्रगान गाए जाने से नागरिकों में देश भक्ति की भावना अनुशासन  मर्यादा का विकास होगा। देश के साढ़े 6 लाख गांवों की ग्राम पंचायतों को भी इस गांव की पहल से प्रेरणा लेनी चाहिए।

Comments

Most Popular

To Top