SPG

एसपीजी का बोझ कम करने की हो रही तैयारी

एसपीजी

नई दिल्ली। केंद्र सरकार विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) का काम हल्का करने के लिए इस सप्ताह के अंत में होने वाली एक बैठक में पूर्व प्रधानमंत्रियों और उनके परिवारों के सुरक्षा कवर को लेकर समीक्षा करेगी। गृह मंत्रालय के सूत्रों ने यह जानकारी दी। पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के एक वर्ष बाद 1985 में गठित एसपीजी को प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवारों को खतरे की आशंका के चलते सुरक्षित रखने का भार सौंपा गया था।





सात चेहरों को ध्यान में रखकर होगी समीक्षा 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा, एसपीजी ने सात अन्य लोगों – पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, उनकी पत्नी गुरशरण कौर, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, उनकी दत्तक बेटी नमिता भट्टाचार्य, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके दोनों बच्चों राहुल और प्रियंका को खतरे की आशंका के चलते विशेष सुरक्षा प्रदान की थी।

सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स को ये ड्यूटी सौंपना चाहती है आईबी

सूत्रों की मानें तो बैठक में, इन सात नामों को ध्यान में रखते हुए उनकी सुरक्षा की प्राथमिकता के आधार पर एसपीजी सुरक्षाकर्मियों को निर्धारित किया जाएगा, खबरों के अनुसार यह समीक्षा ऐसे समय में की जा रही है, जब सुरक्षा संस्थान किसी भी अन्य केंद्रीय अर्धसैनिक बल को इसका जिम्मा सौंपने पर बहस कर रहा है। पिछले वर्ष इंटेलिजेंस ब्यूरो के मुखिया दिनेश्वर शर्मा ने प्रियंका गांधी की सुरक्षा अन्य सुरक्षा बल को सौंपने का सुझाव टीम को दिया था।

क्या है विशेष सुरक्षा दल यानि SPG

विशेष सुरक्षा दल राष्ट्र का एक विशेष सुरक्षा बल है। भारत के प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री, उनके परिवार की सुरक्षा इस विशेष टुकड़ी की जिम्मेदारी है। यह विशिष्ट बल सीधे केंद्र सरकार के मंत्रिमंडलीय सचिवालय के अधीन है।

1988 में एसपीजी को आईबी के एक विशेष अंग के रूप में एक सुरक्षा बल के रूप में गठित किया गया। 1989 से पहले प्रधानमंत्री की सुरक्षा दिल्ली पुलिस के एक विशेष अंग के अंतर्गत थी। इसके बाद प्रधानमंत्री को विशिष्ट सुरक्षा घेरा प्रदान करने के लिए आईबी के स्वतंत्र निर्देशन में एक विशेष कार्यबल गठित किया, जो प्रधानमंत्री के विश्व के किसी भी कोने में जाने पर उन्हें वहां सुरक्षा प्रदान करता है।

ये हैं एसपीजी की खासियत

  • प्रधानमंत्री को 24 घंटे सुरक्षा कवर प्रदान करते हैं।
  • एसपीजी देश की सबसे पेशेवर और माडर्न सुरक्षा बलों में से एक है।
  • अंगरक्षण, अनुरक्षण और अनुरक्षणिक जांच के लिए इन्हें विशेष परीक्षण उपकरण व यूनिफॉर्म दी जाती है।
  • प्रधानमंत्री की अंगरक्षा के अलावा, उनके आवास, कार्यालय तथा हर उस जगह जहां वह रहते हैं
  • पदत्याग के बाद भी नौ वर्ष तक एसपीजी उन्हें सुरक्षा प्रदान करती है।

Comments

Most Popular

To Top