Others

सेना के तालमेल के लिए जनरल रावत बन सकते हैं भारत के पहले ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ’

जनरल बिपिन रावत
फाइल फोटो

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लालकिले के प्राचीर से तीनों सशस्त्र बलों के लिए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) को नियुक्त करने की घोषणा की। सीडीएस तीनों सेनाओं के बीच आपसी तालमेल को और बेहतर करने का कार्य करेगा।





भारत के रक्षा सुधार के लिए करगिल युद्ध पर बनी कमेटी की सिफारिश के बाद इसकी मांग की जा रही थी। सीडीएस पांच सितारा जनरल होगा जो थल सेना, वायुसेना और नौसेना के ऊपर का रैंक होगा। मीडिया खबरों के मुताबिक वर्तमान आर्मी चीफ बिपिन रावत को यह ओहदा सौंपा जा सकता है।

चीफ ऑफ डिफेंस पद बन जाने के बाद युद्ध के समय तीनों सेनाओं के बीच समन्वय स्थापित हो पाएगा। युद्ध के वक्त सिंगल प्वाइंट आदेश जारी किया जा सकेगा। यानी तीनों सेनाओं को एक ही जगह से आदेश जारी होगा। जिससे सेना की रणनीति पहले से ज्यादा प्रभावशाली हो जाएगी और कोई संदेह की कोई गुंजाइश नहीं होगी। इससे बहुत हद तक हम अपना नुकसान होने से बचा पाएंगे।

बता दें कि अमेरिका, जापान, चीन और ब्रिटेन के साथ-साथ कई और देशों के पास चीफ ऑफ डिफेंस का पद है। देश सुरक्षा के सभी मामलों से सीमित संसाधनों के साथ निपटने के लिए चीफ ऑफ डिफेंस के पद की काफी जरूरीत थी। सीडीएस में थलसेना, नौसेना और वायुसेना के प्रमुख शामिल होते हैं। कमेटी के सबसे सीनियर मेंबर को इसका चेयरमैन नियुक्त किया जाता है।

Comments

Most Popular

To Top