Others

ड्रेजिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड ने 20 प्रतिशत लाभांश की घोषणा की

DCI

नई दिल्ली। ड्रेजिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड ने वर्ष 2017-18 के लिए 28 करोड़ रुपये की paid up capital पर 20 प्रतिशत लाभांश की घोषणा की है। डीसीआई के सीएमडी राजेश त्रिपाठी ने शिपिंग मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारियों की उपस्थिति‍ में मंगलवार को नई दिल्‍ली में केन्‍द्रीय शिपिंग, सड़क परिवहन व राजमार्ग, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी को 4.11 करोड़ रुपये का चेक सौंपा। इस महीने के प्रारंभ में आयोजित 42वें वार्षिक आम बैठक के दौरान डीसीआई ने 10 रुपये के इक्विटी शेयर पर 2 रुपये के लाभांश की घोषणा की थी और इस प्रकार 2017-18 के लिए कुल रकम 5.6 करोड़ रुपये हुई। इस कंपनी में भारत सरकार की हि‍स्सेदारी 73.47 प्रतिशत है। इस हि‍स्सेदारी के बदले 4.11 करोड़ रुपये का लाभांश दिया गया।





कंपनी ने वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान 1664.27 लाख रुपये का लाभ (कर पश्‍चात) अर्जित किया जबकि पिछले वर्ष 712.26 रुपये था। कंपनी की परिचालन आय 59187.36 लाख रुपये रही जबकि पिछले वर्ष यह 58514.77 लाख रुपये थी। कंपनी की कुल आय 61211.90 लाख रुपये रही जो पिछले वर्ष 59896.55 लाख रुपये थी। वर्ष 2017-18 के दौरान प्रति शेयर कंपनी की आय 5.94 रुपये रही जबकि पिछले वर्ष यह 2.54 थी।

डीसीआई पिछले 30 वर्षों से हल्दिया बंदरगाह पर ड्रेजिंग का काम कर रही है। कंपनी दूसरे बंदरगाहों/ भारतीय नौ सेना के ड्रेजिंग जरूरतों को पूरा करती है।

कंपनी ने वर्ष 2017-18 के दौरान कोलकाता पोर्ट, कोच्चिन पोर्ट, दाभोल, गंगावरम, मुम्‍बई पोर्ट, पारादीप पोर्ट, विशाखापत्तनम पोर्ट, अंडमान निकोबार दीप समूह, पुडुचेरी, गोघा और दहेज में ड्रेजिंग व रखरखाव का कार्य पूरा किया है।

सीएसआर पहल के तहत कंपनी ने 109.42 लाख रुपये की लागत से सरकारी स्‍कूलों में शौचालयों व आरओ इकाइयों तथा सार्वजनिक स्‍थलों पर शौचालयों का निर्माण किया है।

ड्रेजिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (डीसीआई) का गठन 1976 में किया गया था। इसका उद्देश्‍य देश के बड़े बंदरगाहों में समग्र ड्रेजिंग सेवाएं प्रदान करना है। डीसीआई सार्वजनिक क्षेत्र का मिनी रत्‍न उपक्रम है जो शिपिंग मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है। डीसीआई एक सूचीबद्ध कंपनी है और 10 रुपये के सममूल्‍य वाले कंपनी के शेयर का बाजार भाव 500 रुपये प्रति शेयर है।

 

 

 

Comments

Most Popular

To Top