COURT

न्यायाधीश दलवीर भंडारी ICJ के लिए पुनः नामांकित

जस्टिस दलवीर भंडारी

नई दिल्ली। देश के विधि इतिहास में अनेक ऐतिहासिक फैसले देने वाले और पद्म भूषण से सम्मानित न्यायाधीश जस्टिस दलवीर भंडारी को भारत ने संयुक्त राष्ट्र के इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में दूसरे कार्यकाल के लिए अपना उम्मीदवार पुनः नामांकित किया है। 59 वर्ष के भंडारी अप्रैल 2012 में ICJ के लिए आम सभा और सुरक्षा परिषद में एक साथ डाले गए मतों से निर्वाचित हुए थे। उनका कार्यकाल 5 फरवरी 2018 तक है। न्यायाधीश भंडारी का मुकाबला लेबनान के संयुक्त राष्ट्र में स्थायी प्रतिद्वंदी नवाज सलाम से है। नामांकन नौ वर्ष के लिए होगा।





  • जस्टिस भंडारी ने अनेक ऐतिहासिक फैसले दिये जिस पर सरकार ने कानून में बदलाव भी किये। उनके एतिहासिक फैसलों में हिंदू विवाह कानून 1955, बच्चों को अनिवार्य और नि:शुल्क शिक्षा का अधिकार, रैनबसेरा, गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वालों को सरकारी राशन बढ़ाने आदि प्रमुख हैं।

अंतर्राष्ट्रीय अदालत के नाम से विख्यात इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस का कार्यालय नीदरलैंड स्थित हेग में है। न्यायाधीश भंडारी ICJ में जाने से पूर्व भारत में विभिन्न अदालतों में 20 वर्ष से अधिक समय तक उच्च पदों पर रहे। वह सुप्रीम कोर्ट में भी वरिष्ठ न्यायमूर्ति रहे थे।

1 अक्टूबर 1947 को वकीलों के परिवार में जन्मे न्यायाधीश भंडारी के पिता और दादा राजस्थान बार एसोसिएशन के सदस्य थे। जोधपुर विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने राजस्थान उच्च न्यायालय में वकालत की। 1991 में वह दिल्ली आ गए और वकालत करने लगे। बाद में अक्टूबर 2005 में वह मुंबई उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने। 19 जून 2012 को उन्होंने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के सदस्य की शपथ ली।

Comments

Most Popular

To Top