COURT

जन्मदिन विशेष: देश की पहली महिला जज थीं ‘जस्टिस अन्ना चाण्डी’

जस्टिस अन्ना चाण्डी
फाइल फोटो

देश की पहली महिला न्यायाधीश थीं अन्ना चाण्डी। आज उनका जन्मदिन है। उनका जन्म त्रिवेंद्रम में हुआ था। वह केरल राज्य में वकालत की डिग्री पाने वाली महिला भी बनीं। वह महिलाओं के अधिकारों की आवाज उठाती रही, बाद में वह देश की पहली महिला न्यायाधीश बनीं। आज उन्हीं पर केन्द्रित है इस स्तंभ की जानकारी :-





राज्य में कानून की डिग्री लेने वाली पहली महिला

4 मई, 1905 में केरल  के त्रिवेंद्रम के सीरियाई क्रिश्चियन परिवार में अन्ना चाण्डी का जन्म हुआ। वर्ष 1926 में उन्होंने कानून (लॉ) में पोस्ट-ग्रैजुएशन डिग्री हासिल की। खास बात यह भी है कि अन्ना चाण्डी अपने राज्य में कानून की डिग्री  पाने वाली पहली महिला भी थीं। इसके बाद उन्होंने बैरिस्टर के तौर पर कोर्ट प्रैक्टिस शुरू कर दी।

जस्टिस अन्ना चाण्डी : महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया

वर्ष 1937 में त्रावणकोर के दीवान सर सीपी रामास्वामी अय्यर ने चाण्डी को मुंसिफ के तौर पर नियुक्त किया। इससे वह भारत की पहली महिला जज बन गईं। वर्ष 1948 में चाण्डी को पदोन्नति मिली  और वह जिला जज के तौर पर नियुक्त कीं गईं। अन्ना चाण्डी भारत के किसी हाई कोर्ट की पहली महिला जज भी बनीं।  9 फरवरी, 1959 में उन्हें केरल हाई कोर्ट का जज नियुक्त किया गया। यह पद भी पहली बार किसी महिला को मिला।

Comments

Most Popular

To Top