Anya Smachar

नरेंद्र मोदी का सवाल-‘टूरिज्म चाहिए या टेररिज्म’

जम्मू: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित एशिया की सबसे पहली व लम्बी चनैनी-नाशरी सड़क सुरंग का उद्घाटन किया। इसके बाद उधमपुर में एक जनसभा को सम्बोधित किया। उन्होंने कश्मीर में सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी करने वाले लोगों को निशाने पर रखा। उन्होंने घाटी के अच्छे लोगों की तारीफ में कहा कि एक तरफ ऐसे लोग हैं जो पत्थर काटकर कश्मीर का भविष्य बना रहे हैं तो दूसरी तरफ कुछ भटके हुए युवक पत्थर मारने में लगे हुए हैं।





प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं कश्मीर के युवाओं को कहना चाहता हूं कि पत्थर की ताकत देख लें, एक तरफ भटके जवान पत्थर मारने में लगे हैं वहीं दूसरी ओर कुछ युवा पत्थर काटकर कश्मीर का भविष्य बनाने में लगे हैं। घाटी के नौजवानों के सामने दो रास्ते हैं, एक तरफ टूरिज्म है और दूसरी तरफ टेररिज्म।

अपने संबोधन में मोदी ने कहा कि पिछले 40 सालों में अनेक निर्दोषों ने जान गंवाई है जिसमें किसी का कोई फायदा नहीं हुआ और अगर लहूलुहान हुई तो कश्मीर घाटी। पिछले 40 सालों से चल रहा यह खेल किसी का भला नहीं कर सका और अगर यही समय पर्यटन की ओर लगा होता तो आज कश्मीर घाटी दुनिया का सिरमौर होती।

जम्मू-कश्मीर के विकास में कोई कमीं नहीं रहने देगा केंद्र

उन्होंने कहा कि मैं कश्मीर के युवाओं से आह्वान करता हूं कि केन्द्र व राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ उठाएं और कश्मीर घाटी को विकास की नई दिशा में ले जायें। मैं वादा करता हूं कि केन्द्र व राज्य सरकार कश्मीर के साथ है और जम्मू-कश्मीर के विकास में कोई कमी नहीं रहने दी जायेगी।

सुरंग के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्व के मानकों के अनुरूप तैयार यह सुरंग केवल लम्बी व जम्मू-कश्मीर की दूरी कम करने वाली सुरंग नहीं हैं बल्कि जम्मू-कश्मीर के लिए विकास की एक लम्बी छलांग है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में ऐसी 9 और सुरंगे बनाने की योजना है और इसके माध्यम से जम्मू-कश्मीर का पूरे देश के साथ केवल सड़कों का जुड़ाव ही नहीं बल्कि दिलों का जुड़ाव होगा।

सुरंग का मुआयना करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

 

 

पाकिस्तान पर साधा निशाना

इस मौके पर उन्होंने पड़ोसी देश पाकिस्तान को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सीमा पार जो बैठे हैं वह खुद को संभाल नहीं पाते और क्या कर पायेंगे। उन्होंने कहा कि हम जम्मू-कश्मीर के विकास के माध्यम से सीमा पार के कश्मीरी नागरिकों को बताना चाहते हैं जो लोग आप लोगों पर हुकूमत कर रहे हैं उन्होंने आप लोगों के साथ क्या किया है। विकास ही हमारा मूल मंत्र है और राज्य के हर क्षेत्र का संतुलित विकास हो यही हमारा लक्ष्य है।

प्रधानमंत्री ने राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा को बधाई देते हुए कहा कि केन्द्र द्वारा राज्य के विकास के लिए जो 80 हजार करोड़ रूपए का पैकेज दिया गया था, उन्होंने बहुत कम समय में उसकी आधे से ज्यादा राशि राज्य के विकास में लगा दी। इस अवसर पर राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती, उप मुख्यमंत्री डा. निर्मल सिंह व केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने भी जनसभा को सम्बोधित किया।

चनैनी-नाशरी सुरंग के बारे में

  • एशिया की सबसे पहली व लम्बी सड़क सुरंग
  • यह सुरंग बनाने में 3720 करोड़ रुपए का खर्च आया
  • इसकी लम्बाई 9.28 किलोमीटर है
  • इसके बनने से जम्मू और श्रीनगर के बीच 41 किमी की दूरी कम हो गई है
  • मुख्य सुरंग का व्यास 13 मीटर है जबकि समानांतर जाने वाली छोटी सुरंग का व्यास 6 मीटर है
  • ये दोनों सुरंगे हर 300 मीटर की दूरी पर 29 बार एक-दूसरे से मिलती हैं
  • यह सभी तकनीकी सुविधाओं से लैस है यानी इसमें संचार नियंत्रण, सीसीटीवी, वेंटीलेशन, बिजली सप्लाई और अग्निनिरोधी सुविधाएं उपलब्ध हैं
  • सुरंग बन जाने से 27 लाख रुपए कीमत का ईंधन प्रतिदिन बचेगा जो एक बड़ी उपलब्धि है
  • इस सुरंग का निर्माण कार्य 23 मई 2011 को शुरू हुआ था।

Comments

Most Popular

To Top