Anya Smachar

कोसी रेल पुल टूटने से हुआ ट्रेन हादसा, जांच के लिए पहुंची ATS

रामपुर-ट्रेन-हादसा

लखनऊ। मेरठ से लखनऊ जा रही राज्यरानी एक्सप्रेस (22454) शनिवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे रामपुर के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इसकी 8 बोगियां पटरी से उतर गईं। यह घटना कोसी रेल पुल टूटने की वजह से हुई। इस हादसे में 50 से ज्यादा यात्री घायल हुए हैं। गंभीर रूप से घायल 7-8 यात्रियों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसे के बाद रामपुर लखनऊ रूट पर यातायात बाधित है।





पिछले दिनों यूपी में हुए ट्रेन हादसों में आतंकी करतूत के मद्देनजर जांच के लिए आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) की टीम बरेली से घटनास्थल पर पहुंच चुकी है। नोएडा एटीएस के अपर पुलिस अधीक्षक बृजेश कुमार रामपुर के लिए रवाना हो गये हैं।

ट्रेन डिरेल

ATS ने मौके पर पहुँच कर जांच शुरू कर दी है

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस हादसे में घायल हुए व्यक्तियों को 50-50 हजार रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गये हैं। किसी भी चूक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वह राहत एवं बचाव कार्यों को तेजी से चलाना सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गंभीर रूप से घायलों के लिए 50,000 और अन्य घायलों को 25,000 रुपये की मदद का ऐलान किया है।

ट्रेन डिरेल

ATS के एएसपी बी. श्रीवास्तव के नेतृत्व में टीम ने राज्यरानी एक्सप्रेस हादसे की जांच के बारे में जानकारी दी। श्रीवास्तव ने बताया कि हम जांच कर रहे हैं, जल्द ही रिपोर्ट सीनियर अफसरों को सौंप देंगे

रेलवे सीपीआरओ नीरज शर्मा ने कहा कि हमने राहत कार्य शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि 8.05 बजे मिनट पर सुबह जैसे ही हादसा हुआ। उसके बाद प्राथमिक उपचार के लिए मुरादाबाद से मेडिकल टीम भी पहुंच गयी है। उन्होंने कहा कि जल्द ही रुट को क्लियर कर लिया जाएगा। हादसे में केवल 2 लोगों को मामूली चोटें आई हैं। हम बाकि मुसाफिरों को दूसरी ट्रेन और बसों के जरिये उनके गंतव्य तक पंहुचा रहे हैं।

बार-बार होते रेल हादसों पर सीपीआरओ ने कहा कि जहां भी जिसकी लापरवाही होगी उसको सजा जरूर मिलेगी। कुछ हादसों की जांच एनआईए भी कर रहा है। जैसे ही जांच पूरी होती है जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

लखनऊ-मुरादाबाद रूट की छह ट्रेनें रद, 23 के बदले मार्ग

रेलवे प्रशासन ने रामपुर में हुए रेल हादसे की वजह से लखनऊ जाने वाली लखनऊ-मेरठ राज्यरानी, रामनगर-मुरादाबाद पैसेंजर, काठगोदाम-मुरादाबाद पैसेंजर और सहारनपुर-लखनऊ पैसेंजर सहित छह ट्रेनों को रद कर दिया गया है। वहीं डिब्रूगढ़ से नई दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस सहित 23 ट्रेनों का मार्ग बदल दिया है।

उन्होंने बताया कि सुबह मेरठ से चलकर मुरादाबाद, रामपुर, बरेली होकर लखनऊ आने वाली राज्यरानी एक्सप्रेस रामपुर के पास हादसे का शिकार हो गई। हादसे की खबर के बाद मुरादाबाद से लखनऊ की रेल लाइन बंद हो गई। इसकी वजह से अवध आसाम समेत कई ट्रेनो को बीच में ही रोक दिया गया है। ट्रैक पर राहत व बचाव कार्य जारी है। इससे सिर्फ एक ही ट्रैक से ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि हादसे के कारण लखनऊ-दिल्ली रेल रूट बंद कर दिया गया। चूंकि हादसा डाउन रूट पर हुआ और दिल्ली-लखनऊ डाउन रूट की पटरियां उखड़ गई है।

ट्रेन में यात्रा कर रहे पुलिस के जवानों ने कुछ इस तरह से लोगों को बचाने का कार्य शुरू किया

अधिकारी ने बताया कि लखनऊ-दिल्ली अप रूट को फिलहाल बहाल कर दिया गया है। वहीं दिल्ली-काठगोदाम शताब्दी को अब रामपुर की जगह कटघर-काशीपुर के रास्ते काठगोदाम भेजा गया है। जम्मू से बरौनी जाने वाली मोरध्वज एक्सप्रेस, चंडीगढ़-लखनऊ एक्सप्रेस, जम्मूतवी कोलकाता के बीच चलने वाली सियालदाह एक्सप्रेस, अमृतसर-हावडा के बीच चलने वाली पंजाब मेल, गुवाहटी से लालगढ़ से बीच चलने वाली डिब्रुगढ़ एक्सप्रेस, जम्मूतवी से कोलकाता जाने वाली हिमगिरी एक्सप्रेस, नई दिल्ली से वाराणसी जाने वाली काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस, नई दिल्ली से राजवीर जाने वाली श्रमजीवी एक्सप्रेस, अमृतसर-सहरसा के बीच चलने वाली जनसेवा को मुरादाबाद से चंदौसी, बरेली होते हुए लखनऊ की तरफ भेजा जा रहा है।

अमृतसर से सहरसा जाने वाली गरीब रथ और मुजफ्फरपुर संप्तक्रांति एक्सप्रेस को गाजियाबाद से कानपुर रूट पर भेजा गया है। वहीं नागालडैंम कोलकाता एक्सप्रेस को मुरादाबाद आने की जगह सहारनपुर, मेरठ सिटी, हापुड के रास्ते से कानपुर की तरफ डायवर्ट किया गया। इसके अलावा अभी भी झांसी इंटरसिटी सहित कई ट्रेनों को निरस्त किया जा सकता है और कई ट्रेनों का मार्ग भी बदला जा सकता है।

वहीं, हादसे के बाद काशी विश्नाथ एक्सप्रेस, कोलकाता एक्सप्रेस, श्रमजीवी एक्सप्रेस, गरीबरथ अपने निर्धारित समय से देरी से चल रही है।

 

Comments

Most Popular

To Top