Anya Smachar

जस्टिस करनन को अब जेल जाना ही होगा

जस्टिस-करनन

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने कोलकाता हाईकोर्ट के अवकाशप्राप्त जज जस्टिस करनन की जमानत अर्जी पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है। जस्टिस करनन को सुप्रीम कोर्ट ने कोर्ट की अवमानना का दोषी मानते हुए छह माह कैद की सजा दी है जिसके बाद कोलकाता पुलिस ने उन्हें कल तमिलनाडु में गिरफ्तार किया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जस्टिस करनन को सुप्रीम कोर्ट की सात जजों की बेंच ने सजा दी थी, इसलिए उसमें कोई भी फेरबदल दूसरी बेंच नहीं कर सकती है। उनकी जमानत पर ग्रीष्मावकाश के बाद सुनवाई होगी। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस संजय किशन कौल की वेकेशन बेंच ने कहा कि किसी भी राहत के लिए वे चीफ जस्टिस से ग्रीष्मावकाश के बाद आग्रह करें।





  • जस्टिस करनन हाईकोर्ट के ऐसे पहले जज हैं, जिन्हें पद पर रहते हुए जेल की सजा सुनाई गई है। वे ऐसे पहले जज हैं जो रिटायर होने के समय फरार थे। सजा सुनाए जाने के बाद जस्टिस करनन करीब एक महीने तक फरार रहे।

आज सुप्रीम कोर्ट की वेकेशन बेंच के सामने जस्टिस करनन के वकील ने मेंशन करते हुए कि जस्टिस करनन को कल गिरफ्तार किया गया है, उन्हें अंतरिम जमानत दे दी जाए। जब वेकेशन बेंच ने कहा कि आप ग्रीष्मावकाश के बाद इस मसले को चीफ जस्टिस के सामने मेंशन कीजिए तो जस्टिस करनन के वकील ने कहा कि ग्रीष्मावकाश तक अंतरिम जमानत दी जाए जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया।

सुप्रीम कोर्ट के सात वरिष्ठतम जजों की बेंच ने जस्टिस करनन को कोर्ट की अवमानना का दोषी माना था और उन्हें 9 मई को तुरंत गिरफ्तार कर छह माह जेल की सजा मुकर्रर की थी। उसके बाद से जस्टिस करनन पुलिस को चकमा दे रहे थे। जस्टिस करनन अपने पद से 12 जून को रिटायर भी हो चुके थे। उनके रिटायर होने के 12 दिनों बाद सुराग मिलने पर कोलकाता पुलिस ने उन्हें तमिलनाडु से गिरफ्तार किया था।

Comments

Most Popular

To Top