Anya Smachar

शिमला में टोंस नदी में गिरी बस, 44 लोगों की मौत

खाई-में-गिरी-बस

शिमला। उत्तराखण्ड की एक निजी बस के आज दिन में लगभग 11 बजे शिमला जिले के चैपाल उपमण्डल के दूरदराज क्षेत्र नेरवा के पास गुम्मा गांव के निकट टोंस नदी में गिरने से 44 लोगों की मृत्यु हो गई, जबकि बस के परिचालक व एक अन्य यात्री ने बस से कूदकर अपनी जान बचाई। हादसे की सूचना मिलते ही शिमला व सिरमौर पुलिस सहित प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंची और बचाव कार्य शुरू किया। देहरादून से एनडीआरएफ का एक दल भी घटनास्थल पर पहुंचा।





दुर्घटनाग्रस्त बस (यूके-16 पीए-0045) खड़ी ढांक से करीब 500 मीटर गहरी खाई से पलटते हुए टोंस नदी में गिरी। पुलिस के अनुसार 44 सीटर बस उत्तराखण्ड के विकासनगर से उत्तराखण्ड  के ही त्यूणी की ओर जा रही थी। घटनास्थल शिमला जिला मुख्यालय से लगभग 150 किलोमीटर दूर है। परिवहन मंत्री जीएस बाली ने बस दुर्घटना की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं।

शिमला पुलिस अधीक्षक डीडब्लयू नेगी ने बताया कि बस में 46 यात्री सवार थे, जिनमें 44 की मौत हो गई है। सभी शवों को निकाल लिया गया है। मृतकों में 10 महिलाएं, 3 बच्चे और 31 पुरुष थे। पुलिस अधीक्षक के अनुसार अभी तक 20 मृतकों की पहचान कर ली गई है। मृतकों में सभी शिमला जिले के चैपाल, जुब्बल और उतराखण्ड के निवासी हैं। शिमला के उपायुक्त रोहन चंद ठाकुर दुर्घटना की सूचना मिलते ही स्थल के लिए रवाना हो गए।

घटनास्थल पर मंजर बेहद खौफनाक है और बस के परखच्चे उड़ गए हैं। यहां जगह-जगह क्षतिविक्षत हालत में शव बिखरे पड़े हैं तथा प्रशासन के लिए उन्हें पहचानना मुश्किल हो रहा है।

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश में हर साल एक हजार के करीब लोग सड़क हादसों में जान गंवाते हैं। प्रदेश में अधिकतर सड़क दुर्घटनाएं शिमला, मण्डी, सिरमौर और चंबा जिलों में घटित होती रही हैं। 5 माह पूर्व मंडी जिले में एक निजी बस के ब्यास नदी में समा जाने से 18 लोगों की मौत हुई थी।

Comments

Most Popular

To Top