Anya Smachar

साध्वी प्रज्ञा को मिली जमानत पर कर्नल पुरोहित को नहीं

मालेगाँव ब्लास्ट

मुम्बई। मालेगांव में 2008 में हुए बम विस्फोट मामले में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को सबूतों के अभाव में मुंबई हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है। वह 2008 से लगातार जेल में थीं, अब उन्हें जेल से बाहर आने का मौका मिला है। उल्लेखनीय है कि 29 सितम्बर 2008 को मालेगांव में हुए धमाके में छह लोगों की मौत हुई थी और 101 लोग घायल हुए थे। महाराष्ट्र एटीएस ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया था।





जांच एजेंसी एनआईए ने साध्वी प्रज्ञा सिंह को क्लीनचिट दे दी थी। इसके बाद ही अनुमान लगाया जा रहा था कि उन्हें जमानत मिल जाएगी। एनआईए ने दावा किया था कि साध्वी के खिलाफ मुकदमा चलाने लायक सबूत नहीं है। मुम्बई हाईकोर्ट ने साध्वी को जहां जमानत दे दी है, वहीं पर कर्नल पुरोहित की जमानत को खारिज कर दिया है।

इन बिन्दुओं पर मिली जमानत

  • एनआईए के मुताबिक जिस मोटर साइकिल की वजह से साध्वी को आरोपी बनाया गया है, वह जरूर साध्वी के नाम पर थी, लेकिन धमाके के बहुत पहले से फरार आरोपी रामजी कालसांगरा उसे इस्तेमाल कर रहा था
  • गवाही देने वाले दो गवाह अपने बयान से मुकर गए
  • चूंकि यह मामला मकोका का नहीं बनता, इसलिए उनका पहले वाला इकबालिया बयान अदालत में सबूत नहीं माना जाएगा
  • कहा जाता है कि अप्रैल 2008 में भोपाल में हुई गुप्त बैठक में मालेगांव में बम धमाका कराने पर चर्चा हुई थी पर उसमें भी साध्वी प्रज्ञा की भूमिका नजर नहीं आ रही है
  • साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की गिरफ्तारी के बाद कर्नल पुरोहित ने आरोपी समीर कुलकर्णी को एसएमएस कर बताया था कि पुणे में उसके घर पर एटीएस आई थी। कर्नल ने उसे तुरंत टेलीफोन से सभी नबंर को डिलीट कर भोपाल छोड़ने को कहा था
  • इन्हीं कारणों से साध्वी को जमानत मिलने की बात कही जा रही है और कर्नल पुरोहित की जमानत को खारिज कर दिया गया है

Comments

Most Popular

To Top