Anya Smachar

‘रैनसमवेयर वायरस’ से देश के ATM खतरे में!

रैंसमवेयर-वायरस

नई दिल्ली। देश में कई बैंकों द्वारा एटीएम को एहतियातन बंद कर दिया गया है। रैनसमवेयर वायरस के चलते यह कदम उठाया गया है। इस वायरस ने भारत समेत दुनियाभर के कई देशों में आतंक मचा रखा है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार गृह मंत्रालय ने देश के कुछ एटीएम को एहतियातन बंद किया है।





उल्लेखनीय है कि जिस भी कंप्यूटर में ये वायरस आता है वो काम करना बंद कर देता है इसके अलावा दूर से ही उसे लॉक किया जा सकता है। इस वायरस को हटाने के लिए और पुरानी फाइल वापस लाने के लिए पैसों की मांग की जाती है। ऑनलाइन जालसाजी रोकने वाली कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम ऑफ इंडिया इस वायरस के सोर्स और बचने के तरीकों पर लगातार काम कर रही है।

उधर, पिछले दिनों साइबर हैकरों द्वारा किए गए रैनसमवेयर हमले की शिकार जापान की 600 कंपनियां भी हुई हैं, जिसमें इलेक्ट्रॉनिक्स दिग्गज हिताची (HITACHI) और ऑटो मेकर (NISSAN) भी शामिल है। अधिकारियों ने सोमवार को रैनसमवेयर साइबर की पुष्टि की। जापान कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पाउंस टीम कोऑर्डिनेशन सेंटर के मुताबिक, 600 कंपनियों के 2000 के करीब कंप्यूटर रैनसमवेयर वायरस ‘वानाक्राई’ का शिकार हुआ।

‘रैनसमवेयर वायरस सरकारों के लिए चेतावनी’

वाशिंगटन। गत दिवस हुए साइबर हमले के मद्देनजर माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष ब्रैड स्मिथ ने दुनिया भर की सरकारों से अपील की है कि वे इस हमले को चेतावनी के रूप में लें। उन्होंने कहा कि ये ख़बरें काफी चौंकाने वाली हैं कि वर्तमान हमले की जड़ें अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) से जुड़ी हैं। उन्होंने कहा कि सरकारों को साइबर हथियारों के प्रति अपने रुख़ में बदलाव करने की ज़रूरत है।

उल्लेखनीय है कि रविवार को माइक्रोसॉफ्ट ने एक बयान जारी कर कंप्यूटर प्रणाली में सुरक्षा से जुड़ी जानकारी रखने के सरकारों के तरीके की आलोचना की। बयान में कहा गया है, “हमने देखा है कि किस तरह सीआईए की अतिसंवेदनशील सूचनाओं को विकीलीक्स ने चुराया और अब एनएसए से ऐसी ही संवेदनशील सूचनाएं चोरी होने से दुनियाभर में कंप्यूटर्स प्रभावित हुए हैं।”

 

विदित हो कि 8 अप्रैल, 2014 के बाद से माइक्रोसॉफ्ट इस ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए सुरक्षा पैच बनाना बंद कर चुकी है। कंपनी ने इस ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करने वालों से बेहतर ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करने की अपील भी की थी। लेकिन फिरौती वायरस के हमले के बाद कंपनी ने विंडोज़ एक्सपी और विस्टा के लिए एक इमरजेंसी पैच जारी किया है।

Comments

Most Popular

To Top