Anya Smachar

सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी करने वालों पर क्या कहा PM ने

नई दिल्ली: 11वें सिविल सेवा दिवस के अवसर पर अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी करने वाले कश्मीर के लोगों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने प्राकृतिक आपदाओं के समय सेना द्वारा किए जाने वाले राहत और बचाव कार्य की सराहना करते हुए कहा कि कश्मीर में बाढ़ आने पर जब सेना मदद करती है तो लोग उसकी तारीफ करते हैं, भले ही आज वही लोग उनको पत्थर मारते हों।





प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर आईएस अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि वह गुमनाम तरीके से किये जाने वाले प्रयासों की परंपरा को बनाये रखें और सोशल मीडिया में स्वयं के किए कार्यों को प्रदर्शित करने में न लगे रहें। उन्होंने गुमनाम तरीके से किए गए देशहित में योगदान देने की सिविल सेवकों की परंपरा को ‘अनामिका’ की संज्ञा दी।

सोशल मीडिया से बचने की सलाह दी

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘यह उत्तम से उत्तम सिविल सेवा की ताकत है। कहीं उसमें कमी तो नहीं आ रही| उन्होंने कहा कि आज कितने ही ऐसे प्रयास हैं जिनसे देश में बदलाव आया है लेकिन पता करने की कोशिश करें तो यह बता पना मुश्किल होगा की किसने यह प्रयास किया।

उन्होंने कहा कि आज कई अफसर सोशल मीडिया में स्वयं के प्रचार में लगे हुए हैं। सोशल मीडिया का इस्तेमाल पोलियो दिवस की जानकारी देने के लिए तो ठीक है लेकिन अधिकारी सोशल मीडिया पर बच्चे को दवा पिलाते हुए अपनी तस्वीर लगा देते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘बिना पहचान बनाये काम करने की धरोहर बचाये रखने का हमें प्रयास करना चाहिए।’’

Comments

Most Popular

To Top