Anya Smachar

बजट 2017 को राष्ट्रपति ने इसलिये बताया ऐतिहासिक

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करने के साथ ही संसद का बजट सत्र शुरु हो गया। प्रणब मुखर्जी ने संसद के बजट सत्र को संबोधित करते हुए इसे ऐतिहासिक बताया।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करने के साथ ही संसद का बजट 2017 सत्र शुरु हो गया। प्रणब मुखर्जी ने संसद के बजट सत्र को संबोधित करते हुए इसे ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि आजाद भारत में बाद पहली बार रेल बजट अलग से नहीं लाया जाएगा। सरकार ने इस साल से रेल बजट को भी आम बजट का हिस्सा बना दिया है, पहले रेल बजट अलग से पेश किया जाता था।





उन्होंने सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा कि यह सबका साथ सबका विकास के पथ पर आगे बढ़ रही है। उन्होंने गरीबों को स्वच्छ ईंधन के रूप में रसोई गैस उपलब्ध कराने, स्वच्छ भारत अभियान, जन धन खाते खुलवाने के कार्यों का उल्लेख करते हुये कैशलेस कार्यक्रम की शुरुआत का भी जिक्र किया। राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार लोगों को स्वास्थ सेवाएं और स्वस्छ पेय जल उपलब्ध कराने के साथ साथ गरीबों को आवास उपलब्ध कराने पर भी जोर दे रही है।

प्रधानमंत्री के साथ वित्त मंत्री एवं राज्यसभा में सदन के नेता अरुण जेटली और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद बैठे हुए थे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव और मोदी मंत्रिमंडल के सदस्य मौजूद है।

बजट 2017 के लिए राष्ट्रपति के अभिभाषण की खास बातें

  • जन-धन योजना के तहत बैंकिंग सिस्टम से गरीबों को जोड़ा, 26 करोड़ लोगों के जन धन खाते खुले
  • 1.2 करोड़ लोगों ने सब्सिडी छोड़ी, गांव की महिलाओं को धुएं वाले चूल्हे की जगह LPG कनेक्शन दिये गए
  • ग्राम ज्योति योजना से गांवों का अंधेरा दूर किया
  • अंधेरे में डूबे 18 हजार गांवों में से 11 हजार गांवों में रिकॉर्ड समय में बिजली पहुंचा दी गई है
  • किसानों के लिए ‘सॉयल हेल्थ कार्ड’ लेकर आए, किसानों को क्रेडिट कार्ड दिए गए
  • भारत सरकार ने महिला उद्यमियों को आगे बढ़ाने का काम किया

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि सरकार देश के किसानों की आर्थिक स्थिति को और मजबूत करने के लिए विशेष ध्यान दे रही है और खेती के विकास के लिए अनेक योजनाओं शुरू की गई है। राष्ट्रपति ने कहा कि 2016 में मानसून अच्छा रहने से खरीद फसल की पैदावार में बढ़ोत्तरी हुई, रबी की बुआई भी पिछले साल की तुलना में छह फीसदी अधिक भूमि पर की गई है।

बजट 2017 में उचित मूल्य पर बीज और खाद उपलब्ध

सरकार किसानों को बुआई के लिये समय से पर्याप्त मात्रा में उचित मूल्य पर बीज और खाद उपलब्ध कराने के साथ ही उनकी पैदावार का बेहतर मूल्य भी दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना शुरु करने के साथ ही उन्हें सस्ता कर्ज उपलब्ध करने के लिए इंतजाम किए हैं। किसान क्रेडिट कार्ड को रूपे कार्ड (RuPay Card) में बदला गया है। पिछले दो साल के दौरान प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत 12.07 लाख हेक्टेयर भूमि को लाया गया है। मुखर्जी ने कहा कि दालों की कीमतों को रोकने के लिए कदम उठाए गए। देश में दलहन की पैदावार बढ़ाने की दिशा में प्रयास किए गए। किसानों को दलहनों का उचित मूल्य देने के साथ ही 20 लाख टन का बफर स्टॉक बनाया गया।

Comments

Most Popular

To Top