Anya Smachar

राज्यसभा से सचिन-रेखा ने कमाई तो खूब की लेकिन….

नई दिल्ली: सचिन तेंदुलकर यानि ‘क्रिकेट के भगवान’ और बॉलीवुड की ‘उमराव जान’ यानि रेखा बेशक अपने-अपने प्रोफेशनल कैरियर में शीर्ष पर रहे हों, दुनिया को अपने काम का लोहा मनवाया हो लेकिन ये दोनों ही राजनीति की दुनिया में फिसड्डी साबित हुए हैं। दरअसल, ये दोनों ही राज्यसभा सांसद हैं और सदन में इनका प्रदर्शन नीचे से टॉप पर है। इनके साथ-साथ अभिनेत्री रूपा गांगुली का भी प्रदर्शन खराब रहा है। ये तीनों लोग सदन के ऐसे सदस्य हैं, जिन्होंने एक बार भी सदन की किसी बहस में हिस्सा नहीं लिया।





ये हाल है सांसद निधि से खर्च का

विकास के लिए सांसद निधि खर्च में सचिन ने 25 करोड़ में से 21.19 करोड़ खर्च के लिए सिफारिश की लेकिन अभी तक खर्च सिर्फ 3.54 करोड़ हुए। वहीं, रेखा का हाल और भी बुरा है। रेखा ने कुल मिलने वाली 25 करोड़ सांसद निधि में से 9.28 करोड़ खर्च करने की सिफारिश की लेकिन खर्च हुई सिर्फ 1.68 करोड़।

क्या कहता है नियम

नियमों के मुताबिक हर साल 5 करोड़ की राशि सांसदों को जारी नहीं की जाती बल्कि पहली किश्त बिना शर्त 2.5 करोड़ की मिलती है। जबकि आगामी किश्त पुरानी निधि के इस्तेमाल पर निर्भर करती है। यदि पहली किश्त के मामले को देखें तो सचिन थोड़ा सा आगे हैं यानि उन्होंने कुछ न कुछ विकास किया है उसके बाद उन्हें और रकम दी गई। वहीं, रेखा ने अपनी पहली किश्त 2.5 करोड़ में से सिर्फ 1.68 रुपए ही खर्च किए। यानि उन्होंने इसके आगे किसी प्रकार का न तो विकास कार्य किया और न ही उन्हें किसी प्रकार की रकम दी गई।

सदन में गैर-मौजूदगी

राज्यसभा में बीते करीब 5 साल के दौरान मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की मौजूदगी महज 6.61% रही जबकि अभिनेत्री रेखा की उपस्थिति महज 5.17% थी। बीजेपी के 12 मनोनीत सांसदों में सबसे ज्यादा उपस्थिति सामाजिक कार्यकर्ता संभाजी छत्रपति की 96.88% रही। उनके बाद बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी सबसे ज्यादा (92.41%) सदन में मौजूद रहे।

सचिन ने पूछे 22 सवाल, रेखा का स्कोर जीरो!

सचिन की राज्यसभा में उपस्थिति बेशक कम रही हो लेकिन सवाल पूछने के मामले में वह रेखा से कहीं बेहतर साबित हुए। पिछले 5 साल में सचिन ने सदन में कुल 22 सवाल पूछे। दूसरी तरफ रेखा अपने पूरे कार्यकाल में एक भी सवाल नहीं पूछ सकीं।

सवाल पूछने के मामले में सबसे आगे नामी वकील केटीएस तुलसी रहे। तुलसी ने अभी तक 134 सवाल पूछे। तुलसी के बाद दूसरे नंबर पर संभाजी छत्रपति हैं, उन्होंने सदन में 96 सवाल पूछे। तीसरे नंबर पर सचिन (22) और चौथे पर सुब्रमण्यम स्वामी (16) रहे।

Comments

Most Popular

To Top