Anya Smachar

जानिए, मलाला यूसफजई कहां की सबसे युवा शांति दूत बनीं

मलाला यूसफजई

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसफजई को संयुक्त राष्ट्र का शांति दूत नियुक्त किया। यह जानकारी मंगलवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।





समाचार एजेंसी रॉयटर के अनुसार, 19 वर्षीया मलाला सबसे कम उम्र की शांति दूत हैं और संयुक्त राष्ट्र ने यह सर्वोच्च सम्मान उन्हें दो वर्षों के लिए दिया है। विदित हो कि जब साल 2014 में उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार दिया गया था तो वह सबसे कम उम्र की नोबेल विजेता बनी थीं।

इस मौके पर न्यू यॉर्क में गुटेरेस ने कहा, “आप न केवल नायक हैं, बल्कि प्रतिबद्ध और उदार लड़की भी हैं।” औपचारिक रूप से उपाधि स्वीकार करते हुए मलाला ने कहा, “परिवर्तन लाने के लिए हमारे साथ शुरुआत करें और यह शुरुआत अभी से होनी चाहिए। अगर आप अपना उज्ज्वल भविष्य देखना चाहते हैं तो आपको अभी से शुरुआत करनी होगी और अपना काम किसी अन्य पर नहीं छोड़ें।”

मलाला दुनिया की नजर में साल 2012 में उस समय आईं जब तालिबान लड़ाका ने स्कूल से घर जाते समय उनके ऊपर जानलेवा हमला किया था। वह एक तरह से मर चुकी थीं, लेकिन बच गईं। तालिबान ने उसे इसलिए निशाना बनाया कि वह लड़कियों को शिक्षा से वंचित करने के जिहादियों के अभियान का विरोध कर रही थी।

उल्लेखनीय है कि साहित्य, विज्ञान, खेल, मनोरंजन और अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के लब्धप्रतिष्ठित लोगों को संयुक्त राष्ट्र का शांति दूत बनाया जाता है।

Comments

Most Popular

To Top