Anya Smachar

महाकौशल पटरी से उतरी, आतंकी साजिश की आशंका

महोबा में महाकौशल एक्स. हादसा

महोबा: जबलपुर से हजरत निजामुद्दीन स्टेशन जा रही महाकौशल एक्सप्रेस आधी रात के बाद महोबा में उस समय पटरी से उतर गई जब यात्री गहरी नींद में थे। इस हादसे में 45 यात्री घायल हुए हैं। दुर्घटना होने के पीछे आतंकी साजिश की भी आशंका है। हादसे की जांच के लिए दलजीत चौधरी (एडीजी लॉ एंड ऑर्डर) ने फोरेंसिक टीम के साथ एटीएस को मौके पर भेजा है। एटीएस की दो और टीम दोपहर तक यहां पहुंच जाएंगी। रेलवे के डीजी (पीआर) अनिल सक्सेना ने बताया कि महोबा में कुलपहाड़ कोतवाली क्षेत्र में लाडपुर और सूपा के बीच महाकौशल ट्रेन के पीछे के सात डिब्बे पटरी से उतर गए।  रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।





हादसे के बाद घटनास्थल पर भारी संख्या में स्थानीय लोग और प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे

 

यात्रियों के मुताबिक, गेट नंबर 422 पर दो बजकर 17 मिनट पर ट्रेन में सवार यात्रियों को गाड़ी में कंपन महसूस हुआ। उसके दो मिनट बाद ही गाड़ी के पिछले हिस्से के डिब्बे पटरी से उतरना शुरू हुए, स्लीपर के पहले तीन डिब्बे उतरे, फिर एसी के चार डिब्बे पटरी से उतर गए। बाकी गाड़ी डिब्बों सहित करीब एक किलोमीटर तक चली गई। एसी के 4 डिब्बे कई फुट गहरी खाई में गिर गए। सोए हुए यात्रियों को जोरदार झटका लगा और चीख-पुकार मच गई।

घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय प्रशासन, एनडीआरएफ, रेलवे प्रशासन राहत और बचाव कार्य में जुट गए। हादसे में गंभीर घायल चार यात्रियों को बेहतर उपचार के लिए झांसी रेफर कर दिया गया है।

मौके पर राहत और बचाव कार्य करते एनडीआरएफ के जवान

घने अंधेरे में बचाव-राहत कार्य शुरू किया गया था। महोबा के डीएम और एसपी मौके पर पहुंच चुके हैं। एसपी गौरव सिंह के मुताबिक अभी तक दुर्घटना में किसी की जान जाने की जानकारी नहीं है। अब तक हादसे की वजह सामने नहीं आई है। कोचों में फंसे सभी यात्रियों को निकाल लिया गया है।

मौके पर एनडीआरएफ की टीम पहुंची और 45 लोगों को राहत-बचाव कार्य में बचाया

एनडीआरएफ की टीम ने राहत और बचाव कार्य में 47 लोगों की टीम घटनास्थल पर पहुंच चुकी है। टीम ने बचाव कार्य शुरू कर दिया है। एनडीआरएफ के अधिकारी आरपी सिंह ने बताया कि अभी तक किसी के मारे जाने अथवा ट्रेन के भीतर फंसे होने की खबर नहीं है।

मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य मंत्री को महोबा भेजा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्रेन दुर्घटना को गंभीरता से लिया है। उन्होंने प्रदेश के स्वास्थ्य तथा चिकित्सा मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह को तत्काल दुर्घटना स्थल पर जाने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही मंत्री को वहां पर चिकित्सा के साथ राहत कार्य पर निगरानी रखने का भी निर्देश दिया है।

 

गौरतलब है कि इससे पहले भी उत्तर प्रदेश में ही 20 नवंबर 2016 को कानपुर देहात के पास इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन पटरी से उतर गई थी। हादसे में करीब 150 लोगों की जान चली गई थी। एक अन्य रेल हादसे में कानपुर के पास रूरा रेलवे स्टेशन के पास 28 दिसबंर की सुबह सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी। हादसे में सौ से ज्यादा यात्री घायल हुए थे।

Comments

Most Popular

To Top