Anya Smachar

जानिए, जस्टिस करनन ने अचानक कहाँ पहुंचकर चौंकाया

जस्टिस करनन

कोलकाता। सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जजों पर जातिगत भेदभाव का आरोप लगाकर चर्चा में छाये कलकत्ता हाईकोर्ट के सिटिंग जज सी. एस. करनन सोमवार को अचानक कलकत्ता हाईकोर्ट में पहुंच गये। उनके पहुंचने के बाद कई तरह की चर्चाएं होने लगी। हालांकि इस दौरान उन्होंने मीडिया से किसी भी तरह की कोई बात करने से मना कर दिया।





बताया गया है कि वह कोर्ट में केवल 15 मिनट रहे थे। इस दौरान उन्होंने कलकत्ता हाईकोर्ट के मुख्य कार्यवाहक न्यायाधीश निशिथा म्हात्रे से बातचीत की व वापस चले गये। मीडिया कर्मियों ने जब उनके चैम्बर में जाकर उनसे मिलने की कोशिश की तो उन्होंने मिलने से भी इनकार कर दिया।

उल्लेखनीय है कि गत 31 मार्च को सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने उनके प्रशासनिक अधिकारों पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने साफ कर दिया है कि सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जजों पर जो भी आरोप करनन ने लगाया है इसके लिये उन्हें बिना शर्त माफी मांगनी होगी अथवा, उन्हें एक महीने का समय देकर कोर्ट ने निर्देश दिया है कि उन्हें हलफनामा के जरिये बताना होगा कि आखिर उन्होंने किस आधार पर जजों पर इतने बड़े आरोप लगाया है। मामले की सुनवाई आगामी 30 अप्रैल को होनी है।

उल्लेखनीय है कि कोलकाता में संवाददाता सम्मेलन कर करनन ने आरोप लगाया था कि चूंकि वह पिछड़ी जाति से आते हैं इसलिये सुप्रीम कोर्ट के सात जज उनसे भेदभाव करते हैं। उनका न सिर्फ सामाजिक बहिष्कार करते हैं बल्कि प्रशासनिक पदों की बढ़ोतरी में भी उनसे भेदभाव करते हैं। इसके बाद गत 10 अप्रैल को कोर्ट ने उनके खिलाफ वारंट जारी कर 31 मार्च को हाजिर होने के लिये कहा था।

Comments

Most Popular

To Top