Anya Smachar

भारत की 101 साल की ‘स्वर्ण परी’ धाविका मन कौर

धाविका मन कौर

नई दिल्ली। भारत की 101 साल की धाविका मन कौर ने सोमवार को आकलैंड में आयोजित विश्व मास्टर्स खेलों की 100 मीटर की फर्राटा दौड़ का स्वर्ण पदक जीत लिया है। यह उनके करियर का कुल 17वां स्वर्ण पदक है।





मन कौर ने एक मिनट 14 सेकेंड में रेस पूरी की। कौर की जीत हालांकि पक्की थी, क्योंकि 100 वर्ष से अधिक उम्र के वर्ग में वह अकेली थीं। न्यूजीलैंड में हुई इस प्रतियोगिता में कुल 25 हजार प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था। न्यूजीलैंड मीडिया ने कौर को ‘चंडीगढ़ का चमत्कार’ बताया। उनके लिए दौड़ का समय नहीं बल्कि उसमें भाग लेना महत्वपूर्ण था।

धाविका-मन-कौर

मन कौर ने एक मिनट 14 सेकेंड में 100 मीटर की रेस पूरी की

उन्होंने पत्रकारों से कहा कि मैंने इसका लुत्फ उठाया और बहुत खुश हूं। मैं फिर से दौड़ने जा रही हूं। मैं दौड़ना नहीं छोड़ूंगी। मैं आगे भी प्रतियोगिताओं में हिस्सा लूंगी। कौर ने केवल आठ साल पहले 93 साल की उम्र में एथलेटिक्स को अपनाया।

धाविका-मन-कौर

मन कौर अभी तक 17 स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं

इससे पहले उन्हें खेलों का कोई अनुभव नहीं था, लेकिन उनके बेटे गुरदेव सिंह ने उन्हें अपने साथ अंतरराष्ट्रीय मास्टर्स खेलों में भाग लेने का सुझाव दिया। चिकित्सकीय परीक्षणों के बाद उन्हें अनुमति मिल गई और तब मां और बेटा दोनों ही विश्व भर में एक दर्जन मास्टर्स एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले चुके हैं।

कौर अभी तक 17 स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं और उनकी योजना आकलैंड में 200 मीटर दौड़, दो किग्रा गोला फेंक और 400 ग्राम भाला फेंक में भाग लेने का है। इससे उनके पदकों की संख्या 20 तक पहुंच सकती है।

Comments

Most Popular

To Top