Anya Smachar

भारत को मिली शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की सदस्यता

शंघाई सहयोग संगठन

नई दिल्ली। भारत अब शंघाई सहयोग संगठन (SCO) का सदस्य बन गया है। शुक्रवार को कजाकिस्तान के शहर अस्ताना में इसकी घोषणा की गई। अस्ताना में SCO समिट चल रही है, जिसमें हिस्सा लेने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गए हैं। शंघाई सहयोग संगठन चीन, रूस के नेतृत्व में छह देशों का संगठन है, जिसमें अब भारत, पाकिस्तान को मिलाकर आठ सदस्य राष्ट्र हो गए हैं।





गुरुवार को कजाखिस्तान के राष्ट्रपति और अस्ताना में चल रही SCO समिट के मेजबान राष्ट्रपति नूरसुल्तान नज़रबायेव ने भारत को SCO का सदस्य बनाए जाने का ऐलान किया। शंघाई सहयोग संगठन का गठन 2001 में किया गया था, तब चीन, रूस, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तजाकिस्तान, उजबेकिस्तान इसके सदस्य थे। अब भारत, पाकिस्तान को मिलाकर इसके आठ सदस्य हो गए हैं। साल 2015 में SCO के उफा सम्मेलन में भारत और पाकिस्तान को सदस्य बनाने का प्रस्ताव पारित हुआ था। SCO एक राजनीतिक और सुरक्षा संगठन है। इसका मुख्यालय बीजिंग में है। यह 2001 में बनाया गया था।

शंघाई सहयोग संगठन

कजाखिस्तान के राष्ट्रपति नूरसुल्तान नज़रबायेव ने भारत को SCO का सदस्य बनाए जाने का ऐलान किया

यह संगठन खासतौर पर सदस्य देशों के बीच सैन्य सहयोग के लिए बनाया गया है। इसमें खुफिया जानकारियों को साझा करना और मध्य एशिया में आतंकवाद के खिलाफ अभियान चलाना शामिल है। फिलहाल अफगानिस्तान, बेलारूस, ईरान और मंगोलिया SCO में सुपरवाइजर देश हैं।

आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा : मोदी

अस्ताना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को यहां शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के शिखर सम्मेलन में भारत को पूर्ण सदस्यता दिए जाने पर सभी सदस्यों का आभार जताया और आतंकवाद को सबसे बड़ा खतरा बताया, लेकिन पाकिस्तान का एक बार भी जिक्र नहीं किया। इस सम्मेलन में मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ एक मंच पर दिखे। हालांकि सदस्यता मिलने पर नवाज ने अपने भाषण में भारत का दो बार नाम लिया और बधाई दी।

मोदी ने कहा, ”SCO हमारे राजनैतिक और आर्थिक सहयोग की मुख्य आधारशिला है। SCO देशों में हमारी सहभागिता के कई आयाम हैं। ऊर्जा, शिक्षा, कृषि, सुरक्षा, खनिज, क्षमता निर्माण, विकासात्मक भागीदारी, व्यापार इसके अहम कारक हैं। भारत को SCO की सदस्यता निश्चय ही हमारे सहयोग को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा। SCO देशों के साथ कनेक्टिविटी भारत की प्राथमिकता है। हम इसका समर्थन भी करते हैं। हम चाहते हैं कि कनेक्टिविटी हमारी भावी पीढ़ी और समाजों के बीच सहयोग का मार्ग प्रशस्त करे।”

सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भाषण दिया। उन्होंने कहा- “पाकिस्तान और भारत के लिए आज अच्छा दिन है। मैं शंघाई सहयोग संगठन के सदस्यों की शुक्रिया अदा करता हूं कि उन्होंने हमें सदस्य बनाया। पाकिस्तान SCO को अच्छी तरह जानता है। हमने कई सम्मेलनों में हिस्सा लिया है। हमें टकराव और दुश्मनी के बिना आने वाली पीढ़ियों के लिए माहौल बनाना चाहिए। मैं भारत को भी बधाई देना चाहूंगा कि वह भी SCO का सदस्य बना है।”

Comments

Most Popular

To Top