Anya Smachar

9 माह की बेटी के शव को लेकर मेट्रो में भटकती रही रेप पीड़िता

ऑटो-रिक्शा

नई दिल्ली/गुरूग्राम। 30 मई को येलो और वायलट लाइन मेट्रो स्टेशन पर हजारों यात्रियों ने एक महिला की बेबसी और उसके साथ हुए दर्दनाक हादसे को देखा। जब यह महिला अपनी बच्ची को अपने कलेजे से लगाकर मेट्रो में चढ़ी तो उसकी आंखों से निकलते आंसू उसके दर्द को साफ बयां कर रहे थे। मेट्रो में सफर कर रहे लोगों को इस बात का पता भी ना था कि जो महिला अपनी बच्ची को सीने से चिपकाकर सफर तय कर रही है उसने इस छोटी से उम्र में ही अपनी जिंदगी का सफर छोड़ दिया है।





गैंगरेप और हत्या के मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि दो आरोपी फरार बताए जा रहे हैं। इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में एक महिला पुलिसकर्मी को सस्पेंड कर दिया गया है। पुलिस ने दूसरे आरोपी योगेंद्र को यूपी के बुलंदशहर से गिरफ्तार किया है।

एेसे हुई बच्ची की मौत !

महिला 29 मई की रात जिस दुखद हादसे की शिकार हुई थी, वह अमानवीय था। बताया जाता है कि पीड़ित महिला का पति के साथ झगड़ा हो गया था। इस झगड़े के बाद वह अपनी बेटी के साथ खांडसा गांव में माता-पिता के घर जा रही थी। उसने एक ऑटो रिक्शा में लिफ्ट ली जिसमें पहले से ही दो शख्स बैठे हुए थे। रात के अंधेरे का फायदा उठाकर दोनों ने ड्राइवर के साथ मिलकर उस महिला के साथ रेप किया। इस दौरान महिला के हाथ में जो बच्ची थी उसे दबंगों ने दूर सड़क पर फेंक दिया। सड़क पर गिरने के कारण बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई।

बच्ची का शव लेकर एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल गई

नौ माह की बच्ची की मौत के बाद पीड़िता उसे लेकर गुरुग्राम के निजी अस्पताल में गई थी। इसके बाद डॉक्टरों ने उसे दूसरी जगह जाने को कहा। पीड़िता ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि इसके बाद बच्ची के शव को लेकर 30 मई को दिल्ली मेट्रो से गुरूग्राम से दिल्ली गई थी। पीड़िता के मुताबिक, दिल्ली से वापस लौटकर अपने परिजनों को पूरी बात बताई।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट का पुलिस कर रही है इंतजार

एसीपी मनीष सहगल ने बताया कि पीड़िता ने बच्ची को लेकर दिल्ली जाने की बात कही है। पुलिस उसकी बातों का सत्यापन करने का प्रयास करेगी। इससे यह पता चलेगा कि वह दिल्ली में कहां और किसके पास गई थी। दूसरी ओर कहा जा रहा है कि आरोपितों ने बच्ची का मुंह दबाकर हत्या कर दी थी और उसके बाद फेंक दिया था। हालांकि पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही इस बारे में कुछ कहा जा सकता है।

CISF की मदद लेगी पुलिस

संदिग्धों-के-स्केच

महिला के द्वारा बताए गए स्केच के आधार पर एक संदिग्ध को हिरासत में लिया गया

पुलिस ने महिला के द्वारा बताए गए स्केच के आधार पर मानेसर के एक गांव से एक संदिग्ध को हिरासत में ले लिया है। पुलिस पूरे मामले में अब CISF की सहायता ले रही है। बताया जाता है कि पुलिस ने मेट्रो के CCTV फुटेज लेने की भी कोशिश की लेकिन उन्हें इसमें कोई कामयाबी नहीं मिली। CISF के डीआईजी रघुवीर लाल के अनुसार, महिला ने एमजी रोड स्टेशन से मेट्रो ली थी, लेकिन समय का पता नहीं चल पाया है। फुटेज सात दिन ही सुरक्षित रहता है। स्टेशन में प्रवेश के समय का पता लगाने की कोशिश की जा रही है। पुलिस अब तक करीब 50 ऑटो रिक्शावालों से पूछताछ कर चुकी है और कइयों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया गया था।

Comments

Most Popular

To Top