Anya Smachar

पी. चिदंबरम के बेटे और वासन हेल्थकेयर को ED का नोटिस

प्रवर्तन निदेशालय

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 45 करोड़ रुपए से जुड़े फेमा कानून के उल्लंघन को लेकर पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ती पी चिदंबरम और उनसे कथित तौर पर संबंधित कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।





मामले में ईडी ने दो साल से अधिक की जांच के बाद इसी प्रकार का नोटिस चेन्नई की कंपनी मेसर्स वासन हेल्थकेयर प्राइवेट लि. को 2,262 करोड़ रुपए के विदेशी विनिमय प्रबंधन कानून (फेमा) नियमों के उल्लंघन को लेकर जारी किया है।

ईडी के मुताबिक, ‘एडवांटेज स्ट्रेटेजिक कंसल्टिंग को वासन शेयर्स की वैश्विक स्तर बिक्री की गड़बड़ी के लिए फेमा (FEMA) के उल्लंघन करने के लिए नोटिस दिया है।’ एडवांटेज स्ट्रेटेजिक कंसल्टिंग को 45 करोड़ रुपये के फेमा के मामले में नोटिस जारी किया गया है।

ईडी ने ट्विटर हैंडल पर लिखा है, ‘शेयर्स की बिक्री में कुल 45 करोड़ की राशि की गड़बड़ी सामने आई है।’ इन ट्रांजैक्शन में कार्ती चिदंबरम की भूमिका भी पाई गई है, जिसके बाद उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

कार्ती के खिलाफ ईडी के आरोप बेबुनियाद: पी चिदंबरम

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने अपने बेटे कार्ती के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय के कथित तौर पर विदेशी मुद्रा उल्लंघन के आरोप को बेबुनियाद बताया है। चिदंबरम ने कहा कि एजेंसी बेबुनियाद और हास्यास्पद आरोप लगा रही है जिससे ऐसा लगता है कि कार्ती नियंत्रक थे और दो कंपनियों के कुछ लेनदेन में फायदा उठाने वालों में थे।

उन्होंने सवाल किया कि ‘ऐसा लगता है’ का क्या मतलब है ? इसका अर्थ है कि प्रवर्तन निदेशालय उन्हें (कार्ति) को इस मामले में घसीटने के लिए बेबुनियाद आरोप लगा रहा है।

Comments

Most Popular

To Top