Anya Smachar

अजमेर दरगाह ब्लास्ट मामले में फैसला 22 मार्च तक टला

दरगाह-ब्लास्ट

जयपुर। अजमेर दरगाह ब्लास्ट मामले में सजा का ऐलान शनिवार को नहीं हो सका। जयपुर की विशेष एनआईए कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखते हुए कहा कि सजा का ऐलान 22 मार्च को किया जाएगा। इस मामले में दो आरोपियों को सजा सुनाई जानी है।





इससे पूर्व गुरुवार 16 मार्च को ही सजा का ऐलान होना था, लेकिन फैसला शनिवार तक के लिए टाल दिया गया था। इस मामले में विशेष न्यायाधीश दिनेश गुप्ता ने आरोपी देवेंद्र गुप्ता, भावेश पटेल और सुनील जोशी को दोषी करार दिया था। इनमें सुनील जोशी की मौत हो चुकी है। इस केस में स्वामी असीमानंद को एनआईए कोर्ट ने संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था।

उल्लेखनीय है कि अजमेर में स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में 11 अक्टूबर 2007 को बम विस्फोट हुआ था। विस्फोट में तीन जायरीन मारे गए थे और पंद्रह जायरीन घायल हो गए थे। ब्लास्ट केस में कोर्ट ने दस आरोपियों में से 07 को बरी कर दिया था। जिसमें असीमानंद भी शामिल हैं।

एक आरोपी सुनील जोशी की 2007 में मौत हो चुकी है। भावेश पटेल और देवेन्द्र गुप्ता को इस केस में कोर्ट ने दोषी माना। देवेन्द्र गुप्ता पर साजिश रचने और ब्लास्ट में मदद करने का आरोप है। वहीं भावेश पटेल पर साजिश में शामिल होने का आरोप है।

Comments

Most Popular

To Top