Anya Smachar

AIIMS की रिपोर्ट में खुलासा, कैसे हुई थी जयललिता की मौत

जे जयललिता

चेन्नई: तमिलनाडु की पूर्व दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता की मौत का खुलासा हो गया है। दरअसल, AIIMS ने सोमवार को उनकी मौत से जुड़ी रिपोर्ट में दावा किया है कि जयललिता हार्ट अटैक आने से एक दिन पहले यानि 4 दिसंबर को पूरी तरह होश में थीं। हार्ट अटैक के बाद उनकी हालत नाजुक हो गई और अगले दिन उनका निधन हो गया था।





जयललिता के निधन के 91 दिन बाद तमिलनाडु सरकार की ओर से यह रिपोर्ट जारी की गई है। बता दें कि जयललिता के निधन के बाद उनके इलाज में गड़बड़ी का शक जाहिर किया गया था। इसे देखते हुए तमिलनाडु सरकार ने एम्स से मेडिकल रिपोर्ट मांगी थी।

जे जयललिता

जयललिता का लंबी बीमारी के हाज निधन हो गया था

रिपोर्ट में क्या-क्या है

  • एम्स के डॉ. जीसी खिलनानी समेत 4 डॉक्टरों ने यह रिपोर्ट बनाई है। इसमें कहा गया है, “वह पूरी तरह होश में थीं। कुर्सी पर करीब 20 मिनट बैठ सकती थीं, लेकिन न्यूरोमस्कुलर वीकनेस की वजह से खड़ी नहीं हो सकती थीं।”
  • डॉ. जीसी खिलनानी समेत चारों डॉक्टर जयललिता के इलाज के लिए चेन्नई के अपोलो हॉस्पिटल में 3 दिसंबर को पहुंचे थे। यह टीम उसी दिन दिल्ली लौट गई थी और 5 दिसंबर की शाम को चौथी और आखिरी बार इस हॉस्पिटल में आई थी।
  • रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जयललिता को फिजियोथेरेपी देने की जरूरत थी लेकिन उनको पहले से पॉलीन्यूरोपैथी बीमारी थी, जिसकी वजह से उन्हें पूरी तरह ठीक होने में कई हफ्ते या महीने लग सकते थे।
  • एम्स ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि उन्हें बताया गया कि जयललिता को 4 दिसंबर की शाम 4:30 बजे हार्ट अटैक आया था।
  • अटैक आने के बाद 45 मिनट तक उनके हार्ट को पंप किया गया, फिर ओपन कार्डिएक मसाज की गई। इसके बाद उन्हें ईसीएमओ और पेसमेकर लगाया गया।
  • रिपोर्ट के मुताबिक जयललिता के बॉडी का टेम्परेचर हमेशा कम रहता था और उनका लगातार हीमोडायलिसिस किया जा रहा था।
  • रिपोर्ट में बताया गया है कि जयललिता की बॉडी का टेम्परेचर नॉर्मल होने पर रात करीब 10 बजे फिर जांच की गई। पता चला कि ब्लडप्रेशर तेजी से गिर रहा है।
  • रिपोर्ट में बताया गया है कि ईसीएमओ लगाने पर पता चला कि हार्ट ने काम करना बंद कर दिया है। पेसमेकर लगाने पर भी मॉनिटर पर सीधी लाइन नजर आ रही थी।
  • न्यूरोलॉजिस्ट के मुताबिक, जयललिता की जान बचाने के लिए की जा रही सभी कोशिशें नाकाम हो रही थीं। इसके बाद एम्स की टीम ने तय किया कि अपोलो की टीम जयललिता के परिवार वालों से बात करेगी।

अपोलो हॉस्पिटल की रिपोर्ट

  • अपोलो हॉस्पिटल (चेन्नई) ने जयललिता की मौत से जुड़ी रिपोर्ट में कहा है कि मोटापे, हाई ब्लडप्रेशर, थायरॉयड की बेहद खराब हालत, डायरिया की गंभीर बीमारी और ब्रोंकाइटिस की वजह से उन्हें कई कॉम्प्लिकेशन्स हो गए थे। उनकी मौत के सबसे बड़े कारण यही थें।
  • उन्हें 5-7 दिन से फीवर और इंटेस्टाइन की दिक्कतें चल रही थी। जब उन्हें एडमिट किया गया तो जांच में कई बीमारियां और इन्फेक्शन का पता चला।
  • अपोलो हॉस्पिटल ने 18 डॉक्टरों की एक टीम बनाई गई और एम्स टीम समेत 13 डॉक्टरों की सलाह लेकर जयललिता का इलाज किया जा रहा था।

Comments

Most Popular

To Top