Anya Smachar

फ्रांस के बाद अब इस देश में भी बुर्के पर लगेगा बैन

बुर्का पहनने पर रोक

बर्लिन। तीन यूरोपीय देशों फ्रांस, बेल्जियम और नीदरलैंड की तर्ज पर जर्मनी में भी बुर्का पहनने पर रोक लगाने की तैयारी हो गई है। इसके लिए तैयार किए गए क़ानून को संसद के एक सदन ने पास भी कर दिया है। ख़ास बात यह भी है कि सुरक्षा जांच के दौरान सुरक्षाकर्मी के पास बुर्कानशीं का चेहरा देखने का अधिकार होगा। दरअसल, इस क़ानून की जरूरत इसलिए पड़ी क्योंकि हाल-फिलहाल में देश में कई जिहादी हमले हुए हैं जिसमें बर्लिन के क्रिसमस बाजार में ट्रक हमला भी शामिल है। इसमें 12 लोग मारे गए थे। उल्लेखनीय है कि विगत 18 महीने में मध्यपूर्व देशों से करीब दस लाख मुस्लिम जर्मनी में आए हैं।





बुर्का पहनने पर रोक

जर्मन संसद के निम्न सदन (Bundestag) के सदस्यों ने बुर्का पर प्रतिबंध लगाने वाले विधेयक पर अपनी मुहर लगा दी है। अब इस विधेयक को स्वीकृति के लिए उच्च सदन (Bundesrat) में भेजा जाएगा। विधेयक में सिविल सेवा के अधिकारियों, न्यायाधीशों और सिपाहियों को कार्यस्थल पर बुर्का पहनने से रोकने के प्रावधान हैं। हालांकि दक्षिण पंथी पार्टियां सार्वजनिक स्थलों पर बुर्का पहनने पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं।

जर्मनी के गृह मंत्री थॉमस डी मेजिएरे ने कहा कि बुर्का पर प्रतिबंध लगाने का यह कदम दर्शाता है कि जर्मनी में दूसरी संस्कृति को किस हद तक बर्दाश्त किया जाएगा। हालांकि दक्षिणपंथी पार्टियां चाहती हैं कि इस मामले में जर्मनी को फ्रांस का अनुसरण करना चाहिए जहां सार्वजनिक स्थलों पर बुर्का के इस्तेमाल पर साल 2011 से पूर्ण प्रतिबंध लागू है।

वैसे गत साल दिसंबर में चांसलर एंजेला मर्केल ने भी बुर्का पर विधि सम्मत प्रतिबंध लगाने की इच्छा जाहिर की थी। उनका मानना है कि यह देश में उचित नहीं लगता है। फरवरी महीने में बवेरिया प्रांत ने सरकारी दफ्तरों, स्कूलों, विश्वविद्यालयों और गाड़ी चलाते समय बुर्का पहनने पर प्रतिबंध लगाने की योजना बनाई थी। लेकिन जर्मनी में बुर्का पर पूर्ण प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता है, क्योंकि संविधान इसकी इजाजत नहीं देता है।

हालांकि आलोचकों का कहना है कि इसका देश में इसका व्यावहारिक असर बहुत कम होगा, क्योंकि मुसलमानों की जनसंख्या बहुत कम है।

Comments

Most Popular

To Top