Aapni Baat

सीआईएसएफ की मेट्रो में सार्थक पहल

दिनेश-तिवारी

दिनेश तिवारी (वरिष्ठ पत्रकार)

दिल्ली मेट्रो के नौ स्टेशनों पर यात्रियों में नियमों के प्रति सजगता लाने के लिए केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) का चलाया जा रहा अभियान स्वागतयोग्य और सराहनीय है। मौजूदा समय में दिल्ली समेत पूरे एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र) में मेट्रो लोक परिवहन की आधुनिक प्रणाली है जिसमें कम समय में तीव्र गति के साथ यात्री आवागमन करते हैं और अपने गंतव्य स्थानों तक पहुंचते हैं। जिसमें स्कूली बच्चे, कॉलेज जाने वाले छात्र-छात्राएं, नौकरी पेशा लोग, देर रात अपना काम खत्म कर घर लौटने वाले व्यक्ति तथा वृद्ध, दिव्यांग सभी शामिल होते हैं।





चूंकि दिल्ली मेट्रो स्टेशनों की सुरक्षा और यात्रियों के सामान की सेफ्टी का जिम्मा सीआईएसएफ क हवाले हैं लिहाजा पूर्व निर्धारित नियम-कानूनों के प्रति यात्रियों में सजगता लाने के प्रयास से यात्रा आरामदायक व सुरक्षित हो जाती है। ऐसा पिछले हफ्ते (21 सितंबर से शुरू हुए अभियान) जसोला मेट्रो स्टेशन में शुरू की गई पहल में अर्द्धसैनिक बल के जवानों व अफसरों को देखने में मिला। उसी पहल के सकारात्मक परिणामों का प्रतिफल है कि सीआईएसएफ ने इस पूरे सप्ताह दिल्ली के नौ और मेट्रो स्टेशनों को मॉडल मेट्रो स्टेशन के रूप में चयनित कर अभियान चलाने का निर्णय लिया। जिसमें ब्लू, येलो, वायलेट, ग्रीन तथा रेड लाइनों पर स्थित स्टेशन शामिल हैं। जिसके प्रतीकात्मक परिणाम अर्द्ध सैनिक बलों के सामने आ रहे हैं.

दरअसल दिल्ली मेट्रो पर यात्रियों का सर्वाधिक बोझ है या आंकड़ों के लिहाज से यूं कहें कि रोजना दिल्ली मेट्रो के 160 से भी अधिक स्टेशनों से 30 लाख यात्री सफर करते हैं। ऐसे में पीक आवर और इंटरचेंज स्टेशनों पर यात्रियों के चढ़ते-उतरते समय तथा प्लेटफार्म व डिब्बों के भीतर मारामारी होती है जिसे नियमों का कड़ाई से पालन कर दूर किया जा सकता है पर कई यात्री नियम-कानूनों का उल्लंघन कर अन्य यात्रियों के लिए परेशानी पैदा कर यात्रा को कष्टकारी बना देते हैं। ऐसे में सीआईएसएफ के प्रशिक्षित जवानों की इन मॉडल स्टेशनों पर यात्रियों की मेहनत कारगर साबित हो रही है। सुरक्षा बल को भविष्य में मेट्रो के उन स्टेशनों पर भी पहल करनी चाहिए जो गरीब बस्तियों, कम पढ़े-लिखे तबकों के क्षेत्र में स्थित है ताकि मेट्रो नियमों के तहत अपनी जागरूकता बढ़ा कर वे यात्रा को सुगम बना सकें। साथ ही दिल्ली मेट्रो में जारी सीआईएसएफ की पहल की तरह देश की अन्य मेट्रो में भी तैनात सुरक्षा एजेंसियों को भी निरंतर अभियान चलाने की जरूरत है। और बात यहीं तक सीमित न हो। देश के अन्य राज्यों में राजकीय रेलवे पुलिस तथा रेलवे सुरक्षा बल भी ऐसे सार्थक अभियान चलाकर यात्रियों को सुरक्षा तथा सरकारी संपत्ति की हिफाजत बखूबी कर सकती है। जरूरत ईमानदार सोच तथा निष्ठाभरी पहल की है।

Comments

Most Popular

To Top