Jails

शशिकला ने सरेंडर किया, जेल पहुंचीं

शशिकला

चेन्नई। भ्रष्टाचार के मामले में दोषी करार शशिकला सरेंडर करने के बाद बेंगलुरु की परापन्ना जेल के अन्दर कैद हो गयीं। उन्हें न कोई स्पेशल सेल, ना ही विशिष्ट कैदी की सुविधा मिली है। जेल में कैद से पहले शशिकला और उनके साथ दो अन्य अभियुक्तों की मेडिकल जाँच कराई गयी। शशिकला के पहुंचने से पहले उनके पति भी बेंगलुरु के परापन्ना जेल पहुंच गए थे। इससे पहले शशिकला के काफिले पर पत्थरबाजी की गई। इससे निबटने के लिए जेल के बाहर पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। आरोप है कि पत्थरबाजी करने वाले ओ. पनीरसेल्वम के समर्थक हैं।





आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट से सजा पाने के बाद एआईएडीएमके की महासचिव शशिकला को बुधवार को दूसरी बार झटका लगा जब सुप्रीम कोर्ट ने और मोहलत की मांग वाली शशिकला की याचिका को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम इस पर कोई आदेश नहीं देना चाहते। हम इस फैसले में कोई भी बदलाव नहीं करने जा रहे। कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि फैसला दिया जा चुका है। तुरंत का मतलब तुरंत होता है। इससे पहले, शशिकला के वकील के.टी.एस. तुलसी ने कहा कि जेल जाने से पहले अपने काम निपटाने के लिए शशिकला आत्मसमर्पण करने के लिए कुछ समय चाहती हैं।

शशिकला जयललिता की समाधि पर पहुंची और प्रार्थना की

याचिका खारिज होने के बाद सजा के मुताबिक शशिकला सरेंडर के लिए बेंगलुरु रवाना हो गईं। इससे पहले शशिकला जयललिता की समाधि पर पहुंची और प्रार्थना की। साथ ही उन्होंने एमजीआर की समाधि पर ध्यान भी लगाया। इससे पूर्व, शशिकला ने अपने संबंधियों दिनाकरन और वेंकटेश को फिर से पार्टी में शामिल किया। दोनों को जयललिता ने वर्षों पहले पार्टी से निष्कासित कर दिया था। इस दौरान, राज्यसभा के पूर्व सदस्य टीटीवी दिनाकरन को शशिकला ने एआईएडीएम का उप-महासचिव भी नियुक्त किया।

शशिकला के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज

तमिलनाडु पुलिस ने एआईएडीएमके महासचिव वीके शशिकला के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. पुलिस ने यह एफआईआर विधायक एसएस सरवानन की उस शिकायत के बाद दर्ज की है जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि उन्हें बीच रिजॉर्ट में जबरन रखा गया था और उन्हें वहां से भागने में कामयाबी मिली. अब चेन्नई के कांचीपुरम पुलिस थाने में अपहरण का मामला दर्ज किया गया है.

दूसरी ओर, सूत्रों की मानें तो तमिलनाडु के गवर्नर आज नये मुख्यमंत्री की नियुक्ति के बारे में फैसला ले सकते हैं। उम्मीद की जा रही है कि गवर्नर पलानीसामी को सरकार बनाने का न्योता दे सकते हैं। क्योंकि बीते दिन पलानिसामी ने राज्यपाल से मुलाकात के दौरान 124 विधायकों के हस्ताक्षर समर्थन वाला एक पत्र उन्हें सौंपा था। इस मामले में शशिकला समर्थक सेनगोट्टयन ने कहा कि एआईएडीएमके के सभी विधायक एकजुट हैं।

Comments

Most Popular

To Top