International

इस पाकिस्तानी जासूस को अपनों से ही खतरा, नहीं लौटना चाहता अपने वतन

पाकिस्तानी जासूस मुनीर और कुलभूषण

भोपाल। भोपाल जेल से सजा पूरी होने के बाद रिहा हो चुके पाकिस्‍तान का जासूस साजिद मुनीर वापस अपने देश नहीं जाना चाहता। एएसपी राजेश भदौरिया ने बताया कि वह वापस जाने से इसलिए डर रहा है क्‍योंकि उसको लगता है कि वहां पर उसकी हत्‍या की जा सकती है। साजिद का कहना है कि उसे भारत की न्‍यायिक प्रणाली पर पूरा भरोसा है। साजिद को भारत में जासूसी के आरोपों में कोर्ट ने 12 वर्ष की सजा सुनाई थी, जो पिछले वर्ष पूरी हो चुकी है।





इसके बाद उसको जेल से भी रिहा कर दिया गया था। लेकिन कानूनन उसको वापस पाकिस्‍तान भेजना भोपाल पुलिस के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रहां है। इस वजह से पिछले करीब दस महीने से भोपाल पुलिस ही उसका पूरा खर्चा उठा रही है और उसकी हर जरूरत का ध्‍यान भी रख रही है।

साजिद मुनीर

जासूस मुनीर लगभग 10 महीने से डिस्ट्रिक्ट स्पेशल ब्रांच की निगरानी में है (फाइल फोटो)

साजिद की यह कहानी पाकिस्‍तान में गिरफ्तार कर झूठे आरोपों में फंसाकर कुलभूषण जाधव की उस कहानी से बिल्‍कुल उलट है जिन्‍हें कुछ दिन पहले ही पाकिस्‍तान की कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। इसको लेकर भारत ने अपनी नाराजगी जाहिर कर दी है और पाकिस्‍तान को दो टूक चेतावनी भी दे डाली- अगर कुलभूषण को फांसी हुई तो अंजाम भुगतेगा पाकिस्तान। भोपाल पुलिस पिछले दस महीने से लगातार साजिद को वापस भेजने की कोशिश कर रही है। लेकिन पाकिस्‍तान की तरफ से इस बारे में कोई जवाब नहीं दिया जा रहा है। लिहाजा मुनीर भोपाल पुलिस की जिम्मेदारी बन गया और लगभग 10 महीने से डीएसबी (डिस्ट्रिक्ट स्पेशल ब्रांच) की निगरानी में है।

साजिद की कहानी कराची से शुरू होती है जहां पर उसने अपने भाई की मौत का बदला लेने के लिए एक कत्‍ल कर दिया था। इसके बाद उसकी जिंदगी पूरी तरह से बदल गई। सजा से बचने के लिए वह जब कानून की नजरों से भागा-भागा फिर रहा था तभी पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी की नजर उस पर पड़ गई। यहीं से ही उसकी जिंदगी पूरी तरह से बदल गई। पाकिस्‍तान की पुलिस और कत्‍ल के आरोप में सजा न होने का लालच देकर आईएसआई ने उसको भारत में जासूसी करने पर राजी कर भारत भेज दिया था। साल 2004 में उसको खुफिया जानकारी के आधार पर गिरफ्तार कर लिया गया।

भारत में उसके पास से जांच अधिकारियों को कुछ संवेदनशील दस्‍तावेज हासिल हुए। इसके बाद उसको कोर्ट ने जासूसी के आरोपों में 12 वर्ष की सजा सुनाई थी। पिछले साल उसकी यह सजा भी पूरी हो गई थी, जिसके बाद उसको पाकिस्‍तान भेजा जाना था। इसके लिए भारत ने पूरी कागजी कार्यवाही भी कर ली थी। लेकिन पाकिस्‍तान ने अपने ही नागरिक को वापस लेने के बाबत कोई गंभीरता नहीं दिखाई।

पाकिस्‍तान की तरफ से अभी तक इस बाबत कोई कार्यवाही नहीं की गई। इसकी वजह से साजिद आज भी भारत में ही है। फिलहाल साजिद सिटी ऑफ लेक के नजदीक कोह-ए-फिजा पुलिस स्‍टेशन की देखरेख में है। उसको वापस उसके मुल्‍क भेजने के लिए डिस्ट्रिक्ट स्‍पेशल ब्रांच ने एक बार फिर कोशिश की है, जिस पर अभी तक भोपाल पुलिस पाकिस्‍तान से मिलने वाले जवाब का इंतजार कर रही है।

Comments

Most Popular

To Top