Jails

1 करोड़ के बदले नाभा जेल ब्रेक के मास्टरमाइंड को छोड़ा

जेल

लखनऊ। आईजी रैंक के एक आईपीएस अफसर के खिलाफ यूपी सरकार ने जांच बिठा रखी है। अफसर पर पंजाब की नाभा जेल ब्रेक के मास्टरमाइंड गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी घनश्याम पुरा को पकड़कर एक करोड़ की रिश्वत के बाद छोड़ने का आरोप है। इस मामले की जानकारी मिलने के बाद मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ ने प्रमुख गृहसचिव को फौरन जांच कराने के आदेश दिए हैं।





पिछले साल पटियाला की नाभा जेल से खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट और बब्बर खालसा के आतंकियों को पुलिस की वर्दी में गए अपराधियों ने छुड़ा लिया था। इसकी साजिश के मास्टरमाइंड गोपी घनश्याम पुरा को यूपी में 10 सितंबर को यूपी के शाहजहांपुरा से गिरफ्तार किया गया था। घनश्याम पुरा के किसी दोस्त ने इस डर से कहीं उसका एनकाउंटर न हो जाए उसकी गिरफ्तारी की जानकारी अपनी फेसबुक पोस्ट पर दे दी।

आरोप है कि पंजाब के एक दूसरे बड़े अपराधी और शराब व्यापारी के जरिए एक करोड़ की डील हुई, जिसकी मध्यस्थता सुल्तानपुर के एक कांग्रेसी नेता ने की। पंजाब पुलिस ने शराब कारोबारी रिंपल और अमनदीप की कॉल इंटरसेप्ट की जिससे पूरे केस का पता चला। इसमें वो आईजी के जरिए घनश्याम पुरा को छुड़ाने की बात कर रहे हैं।

IB और पंजाब पुलिस ने इसकी जानकारी यूपी सरकार को दी, जिसके बाद सरकार ने जांच बिठा दी।

Comments

Most Popular

To Top