Jails

इस जेल में 21 मोबाइल फोन के साथ मिला नशे का सैंडल

जोधपुर: देश की दूसरी सबसे सुरक्षित जेल मानी जाने वाली जोधपुर सेंट्रल जेल अब सुरक्षित नहीं रही। यहां मोबाइल और चरस अवैध तरीके से पहुंचाई जाती है। इसका खुलासा उस समय हुआ जब कुछ लोग जेल की सुरक्षा में सेंधमारी करते हुए जेल में बंद बंदियों को मोबाइल सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 21 मोबाइल फोन, चार्जर के अलावा सैंडल में छिपाकर चरस चहारदीवारी के ऊपर से फेंककर चले गए। यह सामान किसने फेंका और किसके लिए फेंका इस बात का खुलासा नहीं हो सका है लेकिन जेल प्रहरियों की सजगता के चलते ये सामान कैदियों तक नहीं पहुंच पाया।





पुलिस ने बताया कि सोमवार को सेंट्रल जेल की ऊंची चहारदीवारी के ऊपर से किसी अज्ञात व्यक्ति ने जेल परिसर में बंद कैदियों के मंगाए हुए सैमसंग के 21 नए कीमती मोबाइल सेट थैली में डालकर फेंक दिए। इस थैली में एक सैंडिल की जोड़ी भी मिली जिसकी तलाशी में 20 ग्राम चरस बरामद हुई। उक्त सामग्री जेल परिसर में मिलते ही सुरक्षा प्रहरियों ने जेल अधीक्षक विक्रमसिंह को सूचित किया।

जेल अधीक्षक ने बताया कि रातानाडा थाने में दो अलग-अलग मुकदमे अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ दर्ज करवाए हैं जिसमें एक मुकदमे में मोबाइल फोन मिलने और दूसरे में सैंडिल में छिपाकर चरस भेजने का है। मोबाइल के मामले में पुलिस ने राजस्थान कारागार संशोधित अधिनियम की धारा 42 के तहत दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। वहीं चरस वाले मामले की भी जांच की जा रही है।

Comments

Most Popular

To Top