Jails

अब लखनऊ जेल की इस बैरक में 14 रातें काटेंगे ये ‘माननीय’

पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति

लखनऊ। चित्रकूट की एक महिला से गैंगरेप मामले में चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे गये पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति की रातें जिला जेल के क्वेरेंटाइन बैरक में कटेगी। यह वह बैरक है जहां ‘माननीय’ या वीआईपी लोगों को रखा जाता है। इसी बैरक में पूर्व विधायक अमरमणि त्रिपाठी को भी रखा गया था। तब यह बैरक अमरमणि को मिली ‘वीआईपी सुविधाओं’ के लिए सुर्ख़ियों में रही थी।





लखनऊ पुलिस ने बुधवार को गायत्री प्रजापति को आशियाना इलाके से गिरफ्तार किया और पूछताछ के बाद कोर्ट में पेश किया गया। जहां से चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में गायत्री को जिला जेल भेज दिया गया। दोपहर बाद जेल पहुंचे पूर्व मंत्री को क्वेरेंटाइन बैरक में रखा गया है। जहां अगली चौदह रातों को काटना है। पुलिस बल की सुरक्षा में जेल पहुंचने पर गायत्री की तलाशी हुई और इसके बाद उन्हें कैदियों वाले कपड़े भी दिये गये। इस दौरान गायत्री समर्थकों को जेल के बाहर ही रोक दिया गया।

गायत्री प्रजापति अपने कारनामों के कारण सुर्खियों में रहे हैं और पहले भी जेल जाने की नौबत आ चुकी है। जब खनन मंत्री रहते हुये गायत्री पर सीबीआई का शिकंजा कसा तो तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उन्हें मंत्री पद से हटा दिया था। इसके बाद समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के लाडले गायत्री परिवहन मंत्री बन गये थे।

Comments

Most Popular

To Top