Jails

इस सेंट्रल जेल ने बदल दी उम्र कैदियों की जिन्दगी

उज्जैन केंद्रीय जेल

उज्जैन। केन्द्रीय जेल में आईटीआई की विभिन्न ट्रेड में 51 बन्दियों ने प्रथम श्रेणी तथा दो बन्दियों ने द्वितीय श्रेणी में परीक्षा उत्तीर्ण की है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2016 में प्रदेश में पहली बार केन्द्रीय जेल स्तर पर पुरुष बन्दियों के लिए उज्जैन जेल में आईटीआई सेन्टर की स्थापना की गई थी। इसमें चार ऐसे ट्रेड्स चुने गए, जिनमें ग्रामीण क्षेत्रों में आसानी से रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सके। कम लागत में स्वयं का व्यवसाय प्रारम्भ किया जा सके।





ख़ास बातें
  • 2016 में प्रदेश में पहली बार पुरुष बन्दियों के लिए आईटीआई सेन्टर की स्थापना
  • अध्यापन के लिए मेहमान अधिवक्ताओं की नियुक्ति
  • अवसादग्रस्त युवा बन्दियों की लगातार काउंसिलिंग कर एडमिशन के लिए प्रेरित किया गया
  • दोपहिया वाहन मरम्मत, ट्रैक्टर मैकेनिक, वायरमेन तथा इलेक्ट्रॉनिक्स (घरेलू उपकरण मरम्मत) की पढाई
  • 55 सजायाफ्ता बन्दियों ने जीवन में पहली बार ऑनलाइन परीक्षा दी

अधीक्षक केन्द्रीय जेल ने बताया कि सीमित वित्तीय संसाधनों और कम समय में आईटीआई की स्थापना की गई। अध्यापन के लिए मेहमान अधिवक्ताओं की नियुक्ति की गई। क्लासरूम्स तथा प्रयोगशालाएं भी बनाई गईं। निरुत्साहित अवसादग्रस्त युवा बन्दियों की लगातार काउंसिलिंग कर उन्हें एडमिशन के लिए प्रेरित किया गया। छह महीनों की लगातार मेहनत के बाद गत माह चारों ट्रेडों के 55 सजायाफ्ता बन्दियों द्वारा जीवन में पहली बार ऑनलाइन परीक्षा दी गई। इनमें अनेक बन्दी ऐसे थे, जिन्होंने कभी कम्प्यूटर देखा भी नहीं था। दोपहिया वाहन मरम्मत, ट्रैक्टर मैकेनिक, वायरमेन तथा इलेक्ट्रॉनिक्स (घरेलू उपकरण मरम्मत) जैसे ट्रेड्स की परीक्षाओं में 51 बन्दी प्रथम श्रेणी में तथा दो बन्दी द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। दो बन्दियों का एक-एक विषय रुका।

जिन बन्दियों ने विभिन्न ट्रेड्स में ट्रेनिंग प्राप्त की उनमें टू-व्हीलर मरम्मत में बृजेन्द्र त्रिपाठी ने प्रथम, वायरमेन ट्रेड में बाबूलाल मालवीय ने द्वितीय तथा गोविन्द रमेशचन्द्र ने तृतीय रैंक प्राप्त की। इलेक्ट्रॉनिक्स में रोशन बालकिशन ने चतुर्थ रैंक अर्जित की। अधीक्षक ने बताया कि जेल सुधार गृह में तब्दीली हो रही है। उज्जैन संभाग के वे सभी बन्दी, जिनसे कतिपय कारणों से आपराधिक कृत्य घटित हुआ था और उन्हें कानून द्वारा दण्डित कर आजीवन कारावास की सजा दी गई है, वे अपनी गलती का पश्चाताप कर रहे हैं। उज्जैन जेल में बन्दियों के शैक्षणिक विकास, नैतिक उत्थान, कौशल उन्नयन के लिए विभिन्न सुधारात्मक गतिविधियों का योजनाबद्ध तरीके से संचालन किया जा रहा है।

जिला जेल में 21 बंदियों ने उत्तीर्ण की कौशल विकास परीक्षा

बैतूल। जिला जेल में संचालित कौशल विकास केन्द्र के अंतर्गत वर्ष 2016-17 की ऑनलाइन परीक्षा में कुल 21 बंदी सम्मिलित हुए, जिनमें घोषित परीक्षा परिणाम के अनुसार समस्त बंदी प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। जिला जेल अधीक्षक एसके वर्मा से प्राप्त जानकारी के अनुसार जेल में कौशल विकास के अंतर्गत वायरमेन, कारपेंटर एवं ट्रैक्टर मैकेनिक ट्रेडों में बंदियों को प्रशिक्षण दिया गया था।

Comments

Most Popular

To Top