International

वीडियो से खुलासा, मिस्र सेना ने निहत्थे बंदियों को मार डाला

मिस्र

कैरो। मिस्र के सिनाई इलाके में आतंक विरोधी अभियान के दौरान सेना पर निहत्थे बंदियों की गोली मारकर हत्या करने का मामला प्रकाश में आया है। इसका खुलासा एक वीडियो से हुआ है जिसकी जानकारी मीडिया रिपोर्ट से शनिवार को हुई। बीबीसी के अनुसार, गैर सत्यापित वीडियो फुटेज में मिस्र की सेना को निहत्थे बंदियों को गोली मारते हुए और इस घटना को मुठभेड़ का रूप देते हुए दिखाया गया है। वीडियो में सेना के जवानों को अपने सामान और शवों को रखते हुए भी दिखाया गया है।





एक सरकार समर्थक वेबसाइट ने कहा है कि साल 2016 का यह वीडियो फर्जी है। हालांकि मिस्र की सेना ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है। वैसे गत साल सेना ने इस घटना के कुछ फुटेज जारी किए थे और कहा था कि भारी गोलाबारी के बाद उसने खतरनाक आतंकियों का सफाया कर दिया।

मिस्र

मिस्र में सेना द्वारा किए जा रहे जुल्म का वीडियो से लिया गया फोटो

इस बीच मानवाधिकार संगठन, एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा है कि उसने वीडियो फुटेज का विश्लेषण किया है और ये सुनियोजित हत्याएं हैं। मिस्र के अधिकारियों को इसकी तुरंत जांच करनी चाहिए।

उल्लेखनीय है कि यह वीडियो गुरुवार को प्रकाश में आया था जिसे स्पष्ट रूप से मोबाइल फोन से फिल्माया गया है। इस वीडियो का प्रसारण टीवी चैनेल मेकमेलीन ने किया है। यह टीवी चैनल मुस्लिम ब्रदरहुड का समर्थक माना जाता है।

वीडियो फुटेज को देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि मिस्र के सैनिक दो बंदियों को काफी नजदीक से गोली मार रहे हैं। एक व्यक्ति जमीन पर गिरा हुआ है। उसे चार गोलियां लगी हैं। बाद में उसके बगल में एक राइफल भी पड़ी दिखती है। वीडियो में एक युवक निहत्था दिखता है और उसकी आंखों पर पट्टी बंधी हुई है और उसको गोली मारने से पहले उससे संक्षिप्त पूछताछ भी की गई।

उल्लेखनीय है कि सिनाई इलाके में सेना इस्लामवादी आतंकियों के खिलाफ वर्षों से आक्रामक अभियान चला रही है। इस इलाके में तथाकथित इस्लामिक स्टेट सक्रिय है।

Comments

Most Popular

To Top