International

वेंकैया नाय़डू लातिन अमेरिकी देशों के दौरे पर जाएंगे

वेंकैया नाय़डू

नई दिल्ली। लातिन अमेरिकी देशों के साथ शिथिल पड़े रिश्तों को नई गहराई देने के लिये उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ग्वाटेमाला, पनामा और पेरू का दौरा करेंगे।





छह से 11 मई तक हो रहे इस दौरे में उपराष्ट्रपति इन देशों के शीर्ष राजनीतिक नेतृत्व के साथ राजनयिक और व्यापारिक रिश्तों को और प्रगाढ़ बनाने पर गहन बातचीत करेंगे। वह छह और सात मई को ग्वाटेमाला, आठ व नौ मई को पनामा और 10 व 11 मई को पेरू जाएंगे।

ग्वाटेमाला के साथ है दशकों से मधुर रिश्ते

ग्वाटेमाला मध्य अमेरिका में  आबादी और अर्थव्यवस्था की नजर से सबसे बड़ा देश है। दोनों के बीच दशकों से मधुर रिश्ते रहे हैं। दोनों देशों के बीच आपसी व्यापार 2016-17 के दौरान सवा 26 करोड़ डालर का था जब कि 2010-11 में यह व्यापार सवा 15 करोड़ डालर का ही था। ग्वाटेमाला के लिये भारत से हो रही अब तक की यह सबसे उच्चस्तरीय आधिकारिक यात्रा है। इस दौरे में वह वनजीवन,  मानव संसाधन, शिक्षा आदि क्षेत्रों में सहयोग के समझौते करेंगे। ग्वाटेमाला के उपराष्ट्रपति जाफेथ काबरेरा से बातचीत के बाद वह राष्ट्रपति जिम्मी मोरेल्स से औपचारिक मुलाकात करेंगे।

सात मई को वह ग्वाटेमाला में भारतीय मूल के लोगों से भी मिलेंगे। यहां विदेश मंत्रालय में सचिव प्रीति सरन ने कहा कि हम ग्वाटेमाला के साथ आपसी रिश्तों को और मजबूत करने की अपेक्षा करते हैं।

पनामा में रहते हैं भारतीय मूल के 15 हजार लोग

सात मई को ही उपराष्ट्रपति पनामा पहुंचेंगे। मध्य अमेरिकी इलाके में पनामा के साथ भारत के रिश्ते सबसे पुराने हैं। भारत और पनामा के बीच हमेशा ही सौहार्दपूर्ण रिश्ते रहे हैं। पनामा में वह राष्ट्रपति जुआं कार्लोस वारेला रोड्रिग्ज के साथ बातचीत के अलावा उपराष्ट्रपति सुश्री इसाबेल डे सेंट मालो से शिष्टमंडल स्तर की बातचीत करेंगे। पनामा में भारतीय मूल के करीब 15 हजार लोग रहते हैं। इसमें से अधिकतर पनामा कनाल के निर्माण में पिछली सदी के शुरु में गए थे। वहां भारी संख्या में भारतीय पेशेवर भी काम करते है। उपराष्ट्रपति पनामा कनाल का भी दौरा करेंगे।

लातिन अमेरिका में भारत का अहम साझेदार है पेरू  

लातिन अमेरिकी देशों के दौरे के तीसरे चरण में वह पेरू जाएंगे। लातिन अमेरिका में पेरू भारत का एक अहम साझेदार है। पेरू के साथ पिछले साल तीन अरब डालर का व्यापार हुआ था। इस दौरे में वेंकैया नायडू पेरू के साथ राजनयिक रिश्तों की स्थापना की 55 वीं सालगिरह के समारोह में भी भाग लेंगे।  2017-18 में भारत का पेरू से आयात 237 करोड़ डालर का और निर्यात 76 करोड़ डालर का था। पेरू ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की सदस्यता के मसले पर अपना अहम समर्थन दिया है।

Comments

Most Popular

To Top