International

क्यूबा: US एंबेसी पर रहस्यमयी हमले, बहरे हो रहे हैं राजनयिक

हवाना में अमेरिकी दूतावास

हवाना। क्यूबा और अमेरिका के संबंधों में एक बार फिर कड़वाहट बढ़ती दिख रही है। वजह है अमेरिकी राजनयियकों पर हेल्थ अटैक। कुछ ही दिन पहले खबर आई थी कि हवाना स्थित अमेरिकी दूतावास में राजनयिकों पर रहस्यमय तरीके से हमला किया जा रहा है। हमलों की वजह से राजनयिकों के दिमाग में सूजन, सिर में तेज दर्द, सुनने में दिक्कत, अंसतुलन और याददाश्त खोने जैसे लक्षण देखने में आए हैं। बताया जाता है कि हमले वर्ष 2016 के आखिर में शुरू हुए और अब तक 21 से ज्यादा राजनयिक बहरे हो चुके हैं। हालात यहां तक पहुंच गए हैं कि ट्रंप प्रशासन पर जल्द से जल्द दूतावास बंद करने का दबाव बन रहा है। गौरतलब है कि बराक ओबामा के कार्यकाल के आखिरी दिनों में क्यूबा में वर्षों बाद अमेरिकी दूतावास खोला गया था।





अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने गत दिन एक शो के दौरान कहा कि अमेरिका हवाना में दूतावास बंद करने पर विचार कर रहा है। दरअसल पांच रिपब्लिकन सेनेटर्स ने टिलरसन को चिट्ठी लिख क्यूबा में अमेरिकी दूतावास को बंद करने की मांग की है। अमेरिकी सरकारी अधिकारियों का आरोप है हवाना स्थित दूतावास में मौजूद अमेरिकी राजनयिकों पर गोपनीय तरीके से रहस्यमय हमले किए जा रहे जिससे राजनियकों के स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है। कुछ मानसिक बीमारी से ग्रस्त बताए गए हैं तो कुछ बहरे हो चुके हैं।

किस तरह हो रहा है हमला ?

अमेरिकी जांचकर्ताओं का आकलन है कि उनके राजनयिकों पर सोनार तंरगों से हमले किए जा रहे हैं। राजनयिकों को निशाना बनाने के लिए ऐसी उन्नत (एडवांस) डिवाइस का इस्तेमाल किया जा रहा है जिसकी कोई आवाज नहीं होती। जहां भी यह डिवाइस हो वहां के लोगों पर इसका बेहद बुरा असर होता है। कहा जा रहा है कि ऐसे डिवाइस अमेरिकी राजयिकों के घर में और घर के बाहर छोड़ दिए गए हैं।

पिछले वर्ष शुरू हुआ था हमले का सिलसिला

अमेरिकी विदेश मंत्रालय का कहना है कि हमलों का सिलसिला पिछले वर्ष शरू हुआ था। हालांकि कुझ वारदातों के बाद यह सिलसिला रूक गया था। किन्तु इस वर्ष अगस्त के शुरू में सिलसिला फिर शुरू हो गया। अगस्त के शुरू में इस तरह की हमले की बात आने के बाद अगस्त के आखिर में भी ऐसे ही हमले की बात सामने आई।

क्या होता है इन हमलों से ?

इन हमलों से प्रभावित लोगों ने बहरेपन की शिकायत की है। कुछ ने बताया कि उन्हें अजीब-अजीब आवाजें सुनाई देती हैं। कुछ ने तेज घंटी की आवाज सुनाई देने की बात कही तो कुछ ने चोट, जी मिचलाने और याददाशत पर असर की बात भी कही है।

क्या बंद होगा दूतावास?

ट्रंप प्रशासन पर दबाव पड़ रहा है कि अमेरिका हवाना स्थित दूतावास बंद करे। हालांकि क्यूबा सरकार कह चुकी है कि इस हमले से सरकार का कोई लेना-देना नहीं है।

Comments

Most Popular

To Top