International

अमेरिका ने रासायनिक हमले के लिए किसे ज़िम्मेदार ठहराया ?

अमेरिकी-विदेश-मंत्री-रेक्स-टिलरसन

वाशिंगटन। अमेरिका ने सीरिया में विद्रोही ठिकानों पर हुए रासायनिक हमले के लिए रूस को ज़िम्मेदार ठहराया है और कहा है कि वह अपने मित्र देश को रासायनिक हथियार रहित बनाने में विफल रहा है। यह जानकारी सोमवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।





मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कहा है कि रूस इस बात पर सहमत हुआ था कि वह आश्वस्त करेगा कि सीरिया के रासायनिक हथियारों का ज़ख़ीरा खत्म हो जाए, लेकिन ऐसा करने में वह नाकाम रहा। यही वजह है कि रासायनिक हमला हुआ।

मालूम हो कि ग्रुप-7 के सदस्य देशों के विदेश मंत्री आज सोमवार को इटली में मुलाकात कर रहे हैं। इस बैठक में इस बात पर चर्चा की जाएगी कि रूसी सरकार पर सीरियाई राष्ट्रपति बशर-अल-असद से दूरी बनाने का दबाव किस तरह बनाया जाए। वैसे टिलरसन मंगलवार को मास्को पहुंचकर रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से मुलाकात करेंगे। ऐसा माना जा रहा है कि वह भी अपने रूसी समकक्ष के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे।

सीरिया में रासायनिक हमला

रासायनिक हमले में सीरिया के 89 नागरिकों की मौत हो गई, इसमें कई बच्चे भी हैं (फाइल फोटो)

टिलरसन ने कहा है कि सीरिया के सहयोगी देश रूस ने साल 2013 में सीरियाई रासायनिक हथियारों के ज़ख़ीरे को ख़त्म करने के लिए समझौता कराया था। लेकिन समझौता प्रभावी नहीं होने से मासूम बच्चों की जानें गईं। उल्लेखनीय है कि सीरिया में हुए संदिग्ध रासायनिक हमले में 89 लोगों की मौत हुई है। अमेरिका ने इसके जवाब में लगभग 60 मिसाइलों से सीरिया के एयरबेस पर हमला किया था। लेकिन सीरिया ने रासायनिक हथियार के इस्तेमाल से साफ इनकार किया है।

रूस ने अमरीकी दावे के विरोध में कहा है कि अमेरिका ने सीरिया के पास रासायनिक हथियार मौजूद होने से जुड़े कोई सबूत नहीं दिए हैं। इसके साथ ही रूस ने सीरियाई एयरबेस पर मिसाइल हमले को साल 2003 में इराक पर किए गए हमले जैसा बताया है।

उधर पश्चिमी देश, विद्रोही दल एवं हथियार विशेषज्ञों के मुताबिक, सभी सबूत सीरियाई सरकार की तरफ उंगली उठा रहे हैं जबकि रूस, ईरान और सीरिया की सरकारें अगले अमेरिकी हवाई हमले की स्थिति में जवाब देने की मुद्रा में दिख रही हैं।

Comments

Most Popular

To Top