International

अमेरिकी राष्ट्रपति के दामाद भी FBI जांच के घेरे में

ट्रम्प-के-साथ-जैरेड-कशनर

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के चुनावी अभियान के रूसी संबंध को लेकर चल रही जांच के सिलसिले में राष्ट्रपति के दामाद और वरिष्ठ सलाहकार जैरेड कशनर भी एफ़बीआई के घेरे में हैं। यह जानकारी अमेरिकी मीडिया से मिली।





रिपोर्ट के मुताबिक, संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) का मानना है कि कशनर के पास ज़रूरी सूचनाएं हैं, लेकिन वह अपराध में संदिग्ध नहीं हैं। विदित हो कि एफ़बीआई इस बात की जांच कर रही है कि 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूस ने हस्तक्षेप किया था या नहीं। हालांकि राष्ट्रपति ट्रम्प ने चुनाव में रूस से किसी तरह की सांठ-गांठ से इनकार किया है।

इस बीच कशनर के वक़ील ने कहा है कि उनके मुवक्किल किसी भी तरह की पूछताछ के लिए तैयार हैं। ट्रम्प ने रूस से संबंधों की जांच को लेकर कहा है कि अमेरिकी इतिहास में यह एक अनोखी जांच है, क्योंकि कोई अपराध हुआ ही नहीं है।

ट्रम्प-प्रशासन-मे-वरिष्ठ-सलाहकार-कशनर

राष्ट्रपति ट्रम्प के दामाद और वरिष्ठ सलाहकार कशनर FBI के जांच घेरे में (फाइल फोटो)

अमेरिकी खुफिया एजेंसियों का मानना है कि रूस ने अमेरिकी चुनाव में रिपब्लिकन का पक्ष लेने की कोशिश की थी। इस चुनाव में डेमोक्रेट हिलेरी क्लिंटन की हार हुई थी। अमेरिकी अधिकारियों ने एनबीसी न्यूज़ से कहा है कि कशनर को लेकर जांच का मतलब यह नहीं है कि वह किसी अपराध में संदिग्ध हैं या उन पर किसी तरह का आरोप है।

समाचार पत्र वाशिंगटन पोस्ट ने कहा है कि पिछले साल कशनर और अमेरिकी में रूसी राजदूत सर्गेइ किसल्याक के बीच मुलाक़ात हुई थी। इस मुलाक़ात में मॉस्को के एक बैंकर सर्गेइ गोर्कोव भी थे।

उल्लेखनीय है कि गोर्कोव जिस बैंक के प्रमुख हैं उस पर ओबामा प्रशासन ने यूक्रेन में अलगाववादियों को मदद पहुंचाने को लेकर प्रतिबंध लगाया था। यह बैंक रूसी प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव और सरकार के अन्य सदस्यों के नियंत्रण में काम करता है। लेकिन कशनर का कहना है कि उन्होंने गोर्कोव से प्रतिबंध को लेकर कोई बात नहीं की थी।

राष्ट्रपति ट्रम्प चुनाव में रूसी हस्तक्षेप को लेकर अमेरिकी कांग्रेस भी जांच कर रही है। कशनर अपने रूसी संपर्कों को लेकर सीनेट खुफिया कमेटी से बातचीत के लिए पहले ही तैयार हो गए हैं। कशनर के वक़ील जेमी गोरेलिक ने बीबीसी से कहा कि उनके मुवक्किल पहले ही रूसी राजदूत से मुलाकात की बात कांग्रेस से साझा कर चुके हैं और जरूरत पड़ने वह दोबारा ऐसा करने को तैयार हैं।

Comments

Most Popular

To Top