International

भारतीय मूल के IS आतंकी ‘जिहादी जॉन’ को अमेरिका ने घोषित किया ‘ग्लोबल टेररिस्ट’

भारतीय मूल का ब्रिटिश नागरिक आतंकी सिद्धार्थ धर

अमेरिका ने इस्लामिक स्टेट (आईएस) के भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक सिद्धार्थ धर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया है। अमेरिकी सरकार के इस ऐलान के बाद आईएस आतंकी सिद्धार्थ धर पर कई तरह के बैन लगाए जाएंगे। अमेरिका में मौजूद उसकी प्रॉपर्टी भी जब्त की जाएगी। यहां के गृह मंत्रालय के अनुसार, आईएस आतंकी सिद्धार्थ धर ब्रिटेन में रहने वाला था, जो पहेल हिंदू था लेकिन आतंकी संगठन में शामिल होने से पहले उसने इस्लाम कबूल लिया था। ऐसे में अब उसे आईएस में अबू रुमायशाह नाम से जाना जाता है। वर्ष 2014 में उसे ब्रिटेन में पुलिस कस्टडी से जमानत मिली थी, जिसके बाद वह अपनी पत्नी और बच्चे के साथ सीरिया भाग गया था।





आतंकी सिद्धार्थ को लेकर आईएस की एक सेक्स स्लेव ने भी खुलासा किया था। यजीदी मूल की नाबालिग निहाद बराकत ने मई 2016 में ‘इंडिपेंडेंट’ को बताया था कि सिदार्थ ने ही उसका अपहरण किया था और बाद में उस पर यातनाएं ढाई। वह तब से उसे मोसुल ले गया था, जो इराक में आतंकी संगठन का गढ़ माना जाता था।

अमेरिकी गृह मंत्रालय के अनुसार, आतंकी सिद्धार्थ के अलावा बेल्जियम मूल के मोरक्को के नागरिक अब्दुल लतीफ गनी को भी ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया गया है, गनी की भी संपत्तियां जब्त होंगी। सीरिया में उसने आईएस ज्वाइन कर लिया। वह आईएस का सीनियर कमांडर बन गया और ‘जिहादी जॉन’ के नाम से कुख्यात मो. एमवाजी की जगह ले ली। मालूम हो कि जनवरी 2016 में ब्रिटेन के लिए जासूसी करने वाले कई कैदियों की आईएस ने गला काटने का वीडियो जारी किया था। उस वीडियो में मास्क पहने जो आतंकी था, वह कोई और नहीं सिद्धार्थ धर ही था।

 

Comments

Most Popular

To Top