International

अमेरिका ने रोकी पाकिस्तान की 350 मिलियन डॉलर की मदद

वॉशिंगटन। अमेरिका ने पाकिस्तान को गठबंधन समर्थन कोष में 350 मिलियन डॉलर की मदद नहीं देने का फैसला किया है। अमेरिका ने ये कदम तब उठाया, जब रक्षामंत्री ने कहा कि इस्लामाबाद की तरफ से कुख्यात हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ ‘पर्याप्त कदम’ उठाए जाने के बारे में वह पुष्टि नहीं कर सकते।





हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ उचित कदम नहीं उठाने पर लिया फैसला

पाकिस्तान स्थित ‘हक्कानी नेटवर्क’ पर युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में अमेरिका और पश्चिमी देशों पर कई बार हमले करने का आरोप है। आतंकी गुट पर काबुल में भारतीय मिशन पर 2008 में बमबारी सहित अफगानिस्तान में भारतीय हितों के खिलाफ कई घातक हमले का भी इल्जाम है। वर्ष 2008 में बम हमले में 58 लोगों की मौत हो गई थी।

‘रक्षा मंत्री मैटिस ने पुष्टि करने से किया मना

पेंटागन के प्रवक्ता एडम स्टंप ने कहा, ‘रक्षा मंत्री मैटिस ने कांग्रेस की रक्षा समितियों को अवगत कराया है कि वह वित्त वर्ष 2016 गठबंधन समर्थन कोष (सीएसएफ) की पूर्ण अदायगी मंजूरी के लिए इसकी पुष्टि नहीं कर सकते कि पाकिस्तान ने हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ पर्याप्त कदम उठाए हैं।’ यह लगातार दूसरा साल है, जब अमेरिकी रक्षा मंत्री ने कांग्रेस को पुष्टि करने से इनकार कर दिया कि पाकिस्तान ने हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ संतोषजनक कार्रवाई की है। मैटिस के पूर्ववर्ती एस्टन कार्टर पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री थे, जिन्होंने पुष्टि करने से मना कर दिया था।

स्टंप ने कहा है  कि रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस की ओर से कांग्रेस को अवगत कराए जाने के फलस्वरूप रक्षा विभाग ने बाकी गठबंधन मदद कोष में 350 मिलियन डॉलर को दूसरे खाते में समायोजित किया है। पेंटागन का फैसला ट्रंप प्रशासन द्वारा अफगानिस्तान और पाकिस्तान के संबंध में अमेरिकी नीति की समीक्षा के पहले उठाया गया है।

Comments

Most Popular

To Top