International

अमेरिका की परमाणु पनडुब्बी पहुंची दक्षिण कोरिया

उत्तर कोरिया

वाशिंगटन। उत्तर कोरिया को लेकर लगातार बढ़ रही तनातनी के बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने स्थिति से अवगत कराने के लिए पूरी अमेरिकी सीनेट को ह्वाइट हाउस बुलाया है। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि इस बैठक में करीब 100 सीनेटर भाग ले सकते हैं। इस बैठक में रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस भी भाग लेंगे। यह जानकारी मंगलवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। ऐसा माना जा रहा है कि ट्रम्प प्रशासन उत्तर कोरिया पर कोई बड़ा निर्णय ले सकते हैं, इसलिए पहले वह पूरी सीनेट को इसके बारे में सूचित करना चाहते हैं और सभी संबंधित जानकारी देना चाहते हैं। इस बीच कोरियाई प्रायद्वीप में बढ़ते तनाव और उत्तर कोरिया के एक और मिसाइल या परमाणु परीक्षण की आशंकाओं के बीच अमेरिका की एक पनडुब्बी दक्षिण कोरिया पहुंच गई है।





उल्लेखनीय है कि इस बैठक से पहले ट्रम्प और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच भी फोन पर बातचीत हुई है। विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, शी ने कहा कि चीन उम्मीद करता है कि संबंधित पक्ष संयम बरत सकते हैं और ऐसी किसी भी कार्रवाई से बच सकते हैं जो कि कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव बढ़ाए।

दोनों नेताओं के बीच ट्रम्प के फ्लोरिडा स्थित रिजॅार्ट में इस माह हुई बैठक के बाद यह दूसरी बार फोन पर बातचीत हुई है। विदित हो कि अमेरिका और चीन आजकल उत्तर कोरिया के मुद्दे पर एक दूसरे का सहयोग कर रहे हैं। अमेरिका ने उत्तर कोरिया मुद्दे पर सहयोग करने के लिए चीन की तारीफ की है।

ह्वाइट हाउस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि उत्तरी कोरिया मामले में चीन ने लगातार सकारात्मक भूमिका निभाई है। ह्वाइट हाउस के प्रेस सचिव शॉन स्पाइसर ने सोमवार को कहा कि इस मामले में चीन बहुत सहयोगी रवैया अपना रहा है और आगे भी इसी तरह की उम्मीद है।

कोरियाई समुद्र में पहुंची अमेरिकी पनडुब्बी

परमाणु पनडुब्बी यूएसएस मिशिगन

मिसाइल से लैस परमाणु पनडुब्बी यूएसएस मिशिगन दक्षिण कोरिया के बुसान पोर्ट पर पहुंची

समाचार एजेंसी रॉयटर के अनुसार, मिसाइल से लैस परमाणु पनडुब्बी यूएसएस मिशिगन उस जंगी बेड़े का हिस्सा होगी जिसका नेतृत्व विमानवाहक पोत कार्ल विन्सन कर रहा है। पनडुब्बी यूएसएस मिशिगन ने मंगलवार को दक्षिण कोरिया के बुसान बंदरगाह पर डेरा डाला है और इसे नियमित प्रयास बताया जा रहा है।

दक्षिण कोरियाई अख़बार चोसुन लोबो के मुताबिक यह एक परमाणु क्षमता वाली पनडुब्बी है जिस पर 154 टॉमहॉक मिसाइल और 60 स्पेशल ऑपरेशन टुकड़ी और छोटी पनडुब्बियां तैनात हैं।

बीबीसी के अनुसार, उत्तर कोरिया मंगलवार को अपनी सेना का 85वां स्थापना दिवस मना रहा है। बड़े परीक्षणों की अटकलों से इतर उसने वोनसान शहर के आसपास एक बड़े सैन्य ड्रिल का आयोजन किया। दक्षिण कोरियाई सेना का कहना है कि इस मौक़े पर उत्तर कोरिया ने बड़े पैमाने पर फ़ायरिंग ड्रिल की है और कोई असामान्य घटना देखने को नहीं मिली। दक्षिण कोरियाई सेना का कहना है, “हमारी सेना उत्तर कोरिया की सैन्य गतिविधियों को बारीकी से निगरानी कर रही है।”

वैसे पिछले कुछ हफ्तों में अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच गर्मागर्म बयानबाज़ी हुई है जिससे इलाके में तनाव बढ़ गया है। 16 अप्रैल को उत्तर कोरिया ने एक असफल बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण किया था। इस पर अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने चेतावनी दी थी कि उत्तर कोरिया राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सब्र की परीक्षा न ले।

Comments

Most Popular

To Top