International

सीरिया में इस गैस से किया गया था रासायनिक हमला

सारिन गैस

हेग। इस महीने के शुरू में सीरिया के विद्राहियों के इलाके में किए गए रासायनिक हमले में सारिन गैस जैसे पदार्थ का प्रयोग किया गया था। यह कहना है ऑर्गेनाइजेशन फॉर दी प्रोहिबिशन ऑफ केमिकल वेपन्स (OPCW) का। सारिन गैस अस्थिर होती है और बहुत गर्म देश में ये वाष्पित हो जाती है या उड़ जाती है।





सारिन-गैस

सारिन गैस का जखीरा (फाइल फोटो)

बीबीसी के मुताबिक, OPCW के प्रमुख अहमत उजूमुकु ने कहा कि हमले के 10 पीड़ितों से लिए नमूनों की चार प्रयोगशालाओं में जांच की गई। उन्होंने कहा कि इस हमले में मारे गए तीन लोगों से नमूने लिए गए थे, वहीं हमले के सात अन्य पीड़ितों से लिए गए नमूनों की दो अन्य प्रयोगशालाओं में जांच की गई।

उल्लेखनीय है कि सीरिया में विद्रोहियों के कब्जे वाले इदबिल के ख़ान शेखून में हुए हमले में लगभग 87 लोगों की मौत हो गई थी जिनमें 68 बच्चे शामिल थे। लेकिन सीरिया की सेना ने रासायनिक हथियार के इस्तेमाल से साफ इनकार किया है। वहीं सीरिया के सहयोगी रूस का कहना था कि हवाई हमले के दौरान विद्रोहियों के रासायनिक हथियारों का जखीरा निशाने पर आ गया था, लेकिन उसके इस दावे को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने खारिज कर दिया है।

मालूम हो कि रासायनिक हमले के बाद पीड़ितों के मुंह से झाग निकल रहा था और वे बोलने में असमर्थ थे। इस रासायनिक हमले के बाद अमेरिका ने सीरियाई हवाई अड्डों पर हमले किए।

Comments

Most Popular

To Top