International

सोशल मीडिया के जरिए सेना की आलोचना बंद करो वरना…

पाकिस्तान

इस्लामाबाद: पाकिस्तान सरकार ने देश के नागरिकों को सेना की आलोचना बंद करने की चेतावनी दी है। पाकिस्तानी गृह मंत्रालय ने कहा है कि व्यक्ति सोशल मीडिया पर ऐसी सामग्री न डाले जिससे सेना की प्रतिष्ठा कम हो और उसका अपमान हो। इस चेतावनी के दो दिन पहले टीवी चैनलों को भी इस आशय के आदेश जारी कर दिए गए थे।





गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान ने चेतावनी दी है कि सेना की आलोचना करना एक गंभीर अपराध है और ऐसा करने वालों के साथ बेहद सख़्ती से पेश आया जाएगा। गृह मंत्री ने कहा कि अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सेना या सेना के अधिकारियों का अपमान करना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

दरअसल, एक प्रेस लीक के संबंध में प्रधानमंत्री कार्यालय की जांच रिपोर्ट को सेना ने ख़ारिज कर दिया था जिसके बाद सेना पर गणतंत्र का अपमान करने का आरोप लगाया गया था। यह मामला पिछले साल अक्टूबर में हुए कथित ‘डॉन लीक’ से जुड़ा है। दरअसल, डॉन अखबार ने सरकार और सैन्य अधिकारियों के बीच तनाव के बारे में लिखा था।

जिस दिन से ‘डॉन’ ने सेना और सरकार के बीच तनाव की ख़बर दी है, उस दिन से कई तरह की प्रतिक्रियाएं देखने को मिलीं। कई लोगों ने इसे राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा बताया तो कई ने कहा कि ‘डॉन’ ने वही बताया जो दशकों से जनता की नज़र में था। विदित हो कि सन 1947 में आजादी के बाद से लगभग हमेशा ही देश में बड़े फ़ैसले प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सेना के अधीन ही रहे हैं।

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान में कई लोगों ने सोशल मीडिया के ज़रिए सेना के आला अधिकारियों पर हमले किए हैं। इनमें से कई के निशाने पर पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top