International

स्पेशल रिपोर्ट: अमेरिकी विदेश मंत्री के भारत दौरे में एस- 400 पर फिर होगी बात

नई दिल्ली: अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो जल्द ही भारत का दौरा करेंगे। उनके भारत दौरे की तिथियों के बारे में दोनों देशों के विदेश मंत्रालयों के आला अधिकारी चर्चा कर रहे हैं और जल्द ही इसे अंतिम रुप दिया जाएगा।





 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के  दूसरे कार्यकाल  में अमेरिका के आला अधिकारी का भारत दौरे का कार्यक्रम बनाना काफी अहम है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा भारत के साथ रिश्तों पर प्रतिकूल असर डालने वाले कई फैसलों पर माइक पोम्पियो के भारत दौरे में दो टूक बातचीत होने की उम्मीद है।

 गौरतलब है कि अमेरिका ने भारतीय निर्यात पर पिछले कुछ दशकों से दी जा रही विशेष छूट जीएसपी के तहत वापस ले ली है। इससे अमेरिका को भारत के निर्यात पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। इसके साथ ही अमेरिका ने भारत को यह भी चेताया है कि रूस से एस-400 एंटी मिसाइल प्रणाली का सौदा लागू किया तो इसका प्रतिकूल असर भारत अमेरिका रक्षा रिश्तों पर पड़ेगा। उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने रूस के साथ रक्षा सौदे करने वाले देशों को दंडित करने के लिये कैटसा कानून बनाया है। अमेरिका ने पहले संकेत दिया था कि वह इस मसले पर भारत की चिंताओं को समझता है इसलिये वह भारत पर कैटसा कानून लागू नहीं करेगा। लेकिन अमेरिकी अधिकारियों ने फिर से यह मसला खोल दिया है।

 इस बारे में पूछे जाने पर यहां विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि रूस से एस-400 एंटी मिसाइल का सौदा हो चुका है औऱ इसे लागू करने वाले विभिन्न कदम उठाए जाने लगे हैं। प्रवक्ता ने कहा कि इस मसले पर भारत और अमेरिका के बीच बातचीत जारी है। भारत ने इस मसले पर अमेरिकी अधिकारियों से तालमेल बनाया हुआ है।

 माना जा रहा है कि  अमेरिकी विदेश मंत्री के भारत दौरे में कैटसा कानून के बारे में गहन चर्चा की जाएगी। भारत ने अमेरिकी प्रशासन को पहले ही यह सकेत दिया है कि वह रूस के साथ एस-400 एंटी मिसाइल सौदे को नहीं तोड़ेगा। ऐसी पांच मिसाइल प्रणाली का सवा पांच अरब डालर का सौदा पिछले  साल सम्पन्न हुआ था।

 भारत यह मिसाइल प्रणाली दुश्मन की बैलिस्टिक मिसाइलों के हमले से बचाव के लिये खरीद रहा है। अमेरिका का कहना है कि वह ऐसी ही मिसाइल प्रणाली भारत को बेचने को तैयार है इसलिये वह अमेरिकी एंटी मिसाइल प्रणाली खरीदे।

Comments

Most Popular

To Top