International

स्पेशल रिपोर्ट: प्रतिबंधों के बावजूद भारत से व्यापार काफी बढ़ा- ईऱान

ईरानी राष्ट्रपति रूहानी और पीएम मोदी

नई दिल्ली। ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद भारत औऱ ईरान के दिवपक्षीय व्यापार में भारी बढ़ोतरी हुई है। भारत में ईरान के नये राजदूत डा अली चेगेनी ने यहां एक बातचीत में कहा कि मई तक दोनों देशों के बीच 15 अरब डालर का आपसी व्यापार हो रहा था जो तीन महीने बाद बढ़कर 18 अरब डालर का हो गया ।





गौरतलब है कि ईऱान और अमेरिका सहित 6 देशों के परमाणु  समझौते को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा तोड़ दिये जाने के बाद अमेरिका ने ईऱान पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिये हैं। इस प्रतिबंध के बाद ईऱान से अमेरिकी डालर में व्यापार नहीं किया जा सकता इसलिये ईऱान ने भारत के साथ भारतीय मुद्रा में ही व्यापार करने की व्यवस्था की।

ईरान के नये राजदूत डा अली चेगेनी

इसके बाद ईऱान ने भारत से अपने  यहां सोया  और बासमती के आयात में भारी बढोतरी की जिससे दिवपक्षीय व्यापार मे  भारी इजाफा हुआ है।  उन्होंने कहा कि ईऱानी आयातक भारत में भारतीय मुद्रा में भुगतान कर सकते है। इसके लिये भारतीय बैंकों के साथ विशेष व्यवस्था की गई है।

ईऱानी राजदूत ने यहां विदेशी मामलों के पत्रकारों की संस्था (  IAFAC)  की एक बैठक मे  कहा कि  ईऱान भारत से कई अन्य उत्पाद आयात करने पर विचार कर रहा है जिनका आयात पहले लैतिन अमेरिका या यूरोपीय देशों से होता था।  उन्होंने कहा कि दोनों के बीच आपसी व्यापार जल्द ही 25 अऱब डालर तक का  हो सकता है।

ईरान के चाबाहार बंदरगाह के  विकास  में भारत के योगदान के बारे में राजदूत ने कहा कि इस बंदरगाह के जरिये भारत और ईरान के बीच व्यापार में भारी इजाफा करने की   अच्छी गुंजाइश है। उन्होंने कहा कि भारत इस बंदरगाह में अपना योगदान बढ़ाना चाहता है लेकिन भारत की यह इच्छा जमीन  पर उतरते नहीं देखी जा रही। भारत ने चाबाहार बंदरगाह से रेल लाइन बिछाने का वादा किया था लेकिन इसमें दिलचस्पी नहीं दिखाने के बाद ईरान ने अपने ही संसाधनों से रेल लाइन प्रोजेक्ट शुरु कर दिया है।

Comments

Most Popular

To Top