International

स्पेशल रिपोर्ट: सऊदी अरब का आतंकवाद पर भारत को साथ, 100 अरब डॉलर करेगा निवेश

सऊदी प्रिंस सलमान
सऊदी प्रिंस सलमान (सौजन्य- ANI)

नई दिल्ली। सऊदी अरब के राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान का भारत दौरा पाकिस्तान पर भारी पड़ेगा। पाकिस्तान में आतंकवाद के मसले पर वह जो कुछ सहमति दे कर आए थे उसके विपरीत उन्होंने भारत में जारी साझा बयान में कह दिया और पाकिस्तान का नाम लिये बिना इशारों  में साफ कहा कि कोई भी देश अपने यहां आतंकवादी तत्वों को पनपने नहीं दे और न ही आतंकवाद को राज्य की नीति के तौर पर इस्तेमाल करे। इसके साथ ही सऊदी अरब ने भारत में सौ अरब डॉलर के निवेश के प्रस्तावों को मंजूरी दी।





सऊदी अरब के राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान के साथ यहां 20 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ हुई अकेले और फिर शिष्टमंडल स्तर की बातचीत में आतंकवाद औऱ पाकिस्तान को लेकर भारत ने साफ साफ सभी बातें बताई और इसी के बाद सऊदी अरब के राजकुमार ने भारत के साथ साझा बयान में वे बातें कहीं जो पाकिस्तान को काफी बुरा लगेगा।

 बातचीत के बाद दोनों देशों ने एक साझा बयान तैयार किया जिसमें साफ कहा गया कि सयुक्त राष्ट्र न केवल आतंकवादी संगठनों बल्कि इसके संचालक आतंकवादी सरगनाओं को भी प्रतिबंधित करने की कार्रवाई करे। गौरतलब है कि सऊदी राजकुमार ने पाकिस्तान दौरे में पाकिस्तान के साथ यह साझा बयान में कहा कि आतंकवादी संगठनों को संयुक्त राष्ट्र के जरिये प्रतिबंधित करवाने के मसले के राजनीतिकरण से बचे।

सऊदी अऱब ने तो संयुकत् राषट्र में 1996 मे  भारत द्वारा रखे गए आतंकवाद विरोधी संधि मसौदे को भी  अपना समर्थन दे दिया। दोनों देशों के साझा बयान में पुलवामा में हुए आतंकवादी हमलों की भी तीव्र निंदा की गई। सऊदी अरब ने भारत के इन कथनों को भी अपना समर्थन दिया कि आतंक से मुक्त माहौल में ही पाकिस्तान के साथ समग्र वार्ता हो सकती है।

 सऊदी अऱब ने भारत में सौ अरब डालर के निवेश का भी वादा किया। गौरतलब है कि सऊदी अरब ने पाकिस्तान में 20 अरब डालर के निवेश की परियोजनाओं को मंजुरी दी थी।

भारत और सऊदी अऱब ने भारत के साथ सभी सामरिक और राजनीतिक मसलों पर सर्वोच्च स्तर पर विचारों का आदान प्रदान करने और उन्हें सुलझाने के लिये एक सामरिक साझेदारी परिषद का भी गठन किया जो दोनों देशों के शिखऱ नेताओं के मार्गदर्शन में काम करेगा।

 दोनों देशों ने भारत में  राष्ट्रीय नवेश एवं ढांचागत कोष की स्थापना पर भी एक सहमित के ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये।

Comments

Most Popular

To Top