International

स्पेशल रिपोर्ट: मसूद अजहर पर प्रतिबंध पर रूस का भारत को समर्थन

आतंकी मसूद अजहर
फाइल फोटो

नई दिल्ली। आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1267 के तहत प्रतिबंधित करने के प्रस्ताव पर रूस ने भारत को समर्थन दिया है। भारत  में रूस के पूर्व राजदूत व्याचेस्लाव त्रुबनिकोव ने भारत और रूस के पत्रकारों के साझा वीडियो कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए कहा कि आतंकवाद के मसले पर भारत और रूस के बीच कोई मतभेद नहीं है।





पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच पैदा सैनिक तनाव की पृष्ठभूमि में राजदूत त्रुबनिकोव ने इस सवाल का जवाब टाल दिया कि क्या रूस को चीन को यह सलाह देनी चाहिये कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक औऱ इसके सरगना मसूद अजहर के खिलाफ पाबंदी लगाने का वह विरोध नहीं करे। गौरतलब है कि भारत, रूस और चीन के अलावा पाकिस्तान भी शांघाई सहयोग संगठन के सदस्य हैं। इस नाते राजदूत त्रुबनिकोव से पूछा गया था कि क्या रूस को चीन के सामरिक साझेदार के नाते यह सुझाव नहीं देना चाहिय। उल्लेखनीय है कि चीन ने पिछले तीन सालों से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में  मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने वाले प्रस्ताव पर वीटो लगाया हुआ है।

लेकिन त्रुबनिकोव ने याद दिलाया कि 48 देशों के परमाणु निर्यातकर्ता समूह (NSG) की सदस्यता का जब चीन विरोध कर रहा था तब रूस ने ही चीन को विरोध खत्म करने के लिये राजी करवाया था। रूस इस तरह भारत और चीन के बीच विवादों को सुलझाने में विगत में योगदान करता रहा है। त्रुबनिकोव ने कहा कि भारत और पाकिस्तान दोनों शांघाई सहयोग संगठन (NSG) के सदस्य हैं  इस नाते शांघाई सहयोग संगठन का भी दायित्व बनता था कि दोनों के बीच विवादों को सुलझाने में अपना योगदान करे। लेकिन इस मंच का इस्तेमाल नहीं हो सका।

त्रुबनिकोव ने याद दिलाया कि 1965 में भारत और पाकिस्तान के बीच विवाद को सुलझाने के लिये रूस ने ताशकंद में बैठक करवाई थी लेकिन अब भारत औऱ पाकिस्तान ने आपसी विवादों के हल के लिये दिवपक्षीय बातचीत का ही रास्ता अपनाया है।

गौरतलब है कि रूसी राष्ट्रपति ब्लादीमिर पुतिन ने पुलवामा पर आतंकवादी हमले की गहरी निंदा की थी और भारत द्वारा पाकिस्तान के भीतर किये गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद उन्होंने भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से फोन पर भी बात की थी।

Comments

Most Popular

To Top