International

Special Report: आर्थिक बदहाली से ध्यान हटाने की पाकिस्तान की कोशिश

बलूचिस्तान में हमला

नई दिल्ली। पिछले सप्ताह पाकिस्तान के क्वेटा में हजारा शिया समुदाय के लोगों पर कातिलाना हमले और बलुचिस्तान में एक बड़े आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान का सुरक्षा महकमा विदेशी ताकतों यानी भारत को इसके लिये जिम्मेदार बता कर एक तीर से दो शिकार करना चाह रहा है।





पाक की रणनीति है कि अपने यहां हो रहे आतंकवादी हमलों के लिये भारत को जिम्मेदार ठहरा कर भारत को भी आतंकवाद समर्थक देश के तौर पर पेश किया जाए और अपने देश  की आर्थिक बदहाली से आम लोगों का ध्यान  हटाकर देश की सुरक्षा से जुड़े मसलों से जोड़ा जाए।  इसके अलावा बलुचिस्तान में चीनी  प्रोजेक्टों की सुरक्षा के लिये चीनी सुरक्षा भूमिका बढ़ाने का भी बहाना वह  खोज रहा है।

यहां सामरिक पर्यवेक्षकों का मानना है कि बलूच असंतोष को कुचलने और शिया समुदाय पर बढ़ते हमलों से शिया देशों खासकर ईरान के सामने अपना असली चेहरा छिपाने के लिये पाकिस्तान ने अपने यहां हाल में हुए आतंकी हमलों के पीछे भारत का हाथ बताकर अपनी जनता का ध्यान बदहाल आर्थिक हालत और अपने देश के भीतर  आईएसआई द्वारा पाले पोसे जा रहे आतंकी गुटों से हटाना चाह रहा है। इसके अलावा वह इन हमलों का बहाना बना कर भारत को न केवल पाकिस्तान विरोधी बल्कि  इस्लामी देशों के बीच इस्लाम विरोधी देश बताने की कोशिश कर रहा है। गौरतलब है कि गत फरवरी माह में इस्लामी देशों के शिखर सम्मेलन के दौरान भारतीय विदेश मंत्री को जब आमंत्रित किया गया तब पाकिस्तान ने विरोध स्वरुप सम्मेलन का बहिष्कार किया।

पाकिस्तान में आमतौर पर शिया समुदाय भारत विरोधी नहीं माने जाते हैं इसलिये पाकिस्तान ऐसे आरोप लगाकर उन्हें भारत के खिलाफ खड़ा करना चाहता है और वह भारत में आम चुनावों के दौरान भारतीय मुसलमानों का ध्रुवीकरण करना चाह रहा है।

बलुचिस्तान में पाक सरकार और पाक सेना को हालात सामान्य करने में मिल रही नाकामयाबी को छिपाने के लिये वह भारत को जिम्मेदार ठहराने की कोशिश कर रहा है। इसके साथ वह अंतरराष्ट्रीय समुदाय में यह छवि बनाने की कोशिश कर रहा है कि पाकिस्तान के विभिन्न इलाकों में जो आतंकवादी हमले हो रहे हैं उसके पीछे भारत का ही हाथ है। इस तरह वह भारत को भी आतंकवाद के प्रायोजक देश के तौर पर पेश करने की कोशिश कर रहा है।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बरगलाने के लिये वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को जिंदा सबूत के तौर पर पेश करने की कोशिश करता है। गौरतलब है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंटों ने जाधव को ईरान से अगवा किया था लेकिन पाकिस्तान यह दावा करता है कि जाधव को बलुचिस्तान से ही पक़डा गया था। बलुचिस्तान में बलूचियों द्वारा पाक सुरक्षा बलों पर किये जा रहे हमलों के लिये जाधव को ही जिम्मेदार बताया जाता है।

Comments

Most Popular

To Top