International

स्पेशल रिपोर्ट: मसूद अजहर अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित, भारत ने जताया आभार

शी जिनपिंग और मसूद अजहर
फाइल फोटो

नई दिल्ली।  कई सालों तक चले राजनयिक प्रयासों के बाद अंततः पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी के तौर पर संयुक्त राष्ट्र ने घोषित कर दिया। चीन द्वारा मसूद अजहर पर अपनी तकनीकी रोक हटाने के बाद यह मुमकिन हो सका।





संयुक्त राष्ट्र के इस ऐलान के बाद संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सर्ईद अकबरुद्दीन ने इसके लिये सभी देशों से मिले समर्थन के लिये अपना आभार जाहिर किया है। भारत ने संयुक्त राष्ट्र के इस फैसले का स्वागत किया है।

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र की 1267 प्रतिबंध समिति के प्रस्ताव पर चीन ने यह कह कर अपना तकनीकी एतराज लगाया था कि इस मसले पर समुचित सबूत नहीं है और इस पर आम राय नहीं बनी है। लेकिन सुरक्षा परिषद के पांच में से चार सदस्यों ने मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने को समर्थन दे कर चीन को अलग थलग कर दिया था।

चीन ने पिछले तीन सालों से मसूद अजहर के खिलाफ प्रस्ताव पर तकनीकी रोक लगाई हुई थी। हालांकि सुरक्षा परिषद में अमेरिका, ब्रिटेन औऱ फ्रांस ने साझा प्रस्ताव लाकर मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय  आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव लाया था। चीन द्वारा इस पर एतराज जाहिर करने के बाद तीनों स्थायी सदस्यों ने चीन को चेतावनी दी थी कि वे तीनों सुरक्षा परिषद में इस मसले पर एक बहस का प्रस्ताव लाएंगे। पर्यवेक्षकों का कहना है कि  सुरक्षा परिषद के बाकी स्थायी सदस्यों के दबाव में चीन झुका औऱ उसने अपनी तकनीकी रोक हटाने का फैसला कर मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने का रास्ता साफ कर दिया।

Comments

Most Popular

To Top